दिल्ली के 13 हॉट स्पॉट स्थानों मे प्रदूषण पर हुई रोकथाम, जाने खबर

दिल्ली के 13 हॉट स्पॉट स्थानों मे प्रदूषण पर हुई रोकथाम, जाने खबर

दिल्ली के 13 स्थानों को प्रदूषण हॉट स्पॉट की श्रेणी में रखा जाता है. मॉनसून को छोड़कर यहां सारे वर्ष वायु गुणवत्ता का स्तर बेकार रहता है. लॉकडाउन ने इन जगहों की हवा को भी साफ कर दिया है. 

सीपीसीबी की रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ है. प्रदूषण पर रोकथाम के लिए पिछले साल 13 प्रदूषण हॉट स्पॉट की पहचान दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने की थी.

पिछले साल अक्तूबर से लेकर इस साल मार्च तक इन जगहों पर विशेष निगरानी रखी गई व अभियान चलाए गए. बावजूद इसके वायु गुणवत्ता में पर्याप्त सुधार नहीं हो पाया. लेकिन लॉकडाउन के चलते वाहनों का संचालन सीमित होने व फैक्टरियों व निर्माण काम बंद होने से प्रदूषण हॉट स्पाट की हवा भी साफ-सुथरी हो गई है.

आनंद विहार व विवेक विहार में भी स्वच्छ हुई हवा : आनंद विहार व विवेक विहार दिल्ली के सबसे प्रदूषित क्षेत्र है. सीपीसीबी की रिपोर्ट के मुताबिक आनंद विहार निगरानी केन्द्र में पीएम-2.5 के स्तर में 62 प्रतिशत, पीएम-10 के स्तर में 69 फीसदी व नाइट्रोजन आक्साइड के स्तर में 72 प्रतिशत की कमी आई है. वहीं विवेक विहार में नाइट्रोजन आक्साइड के प्रदूषण में 60 प्रतिशत तक की कमी आई है. इसी प्रकार द्वारका सेक्टर-8 में पीएम 2.5 के स्तर में 48 फीसदी, पीएम-10 में 61 प्रतिशत की कमी आई है.

आनंद विहार में यातायात के चलते व ओखला में उद्योगों के चलते प्रदूषण का स्तर सबसे ज्यादा रहता है. अशोक विहार, बवाना, मुंडका, जहांगीरपुरी, नरेला, पंजाबी बाग, आरके पुरम, रोहिणी, वजीरपुर समेत 13 इलाकों को भी प्रदूषण के हॉट स्पाट में रखा जाता है.

कैसे निकाले नतीजे: हॉट स्पॉट क्षेत्रों में प्रदूषण का प्रभाव जानने के लिए सीपीसीबी ने लॉकडाऊन के पहले के दिनों यानी 16 मार्च से 21 की वायु गुणवत्ता की तुलना लॉकडाउन के बाद के दिनों यानी 25 मार्च से 15 अप्रैल तक की वायु गुणवत्ता के साथ की गई. आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि दिल्ली के पीएम 2.5 के स्तर में 46 प्रतिशत व पीएम 10 के स्तर में 50 प्रतिशत तक की गिरावट आई है.