सरकार लागू करेगी ये नया नियम, वर्क फ्रॉम होम के लिए जारी किया ड्राफ्ट

सरकार लागू करेगी ये नया नियम, वर्क फ्रॉम होम के लिए जारी किया ड्राफ्ट

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर कर्मचारियों को राहत देने के लिए ज्यादातर ऑफिसेस ने वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) की सुविधा दी है। इसके तहत कर्मचारी अपना ऑफिस का काम घर से ही कर रहे हैं। ज्यादातर निजी कंपनियों ने यह सुविधा दी हुई है। वहीं, अब सरकार भी ऐसे नियम को लाने की तैयारी कर रही है, जिसके तहत ऑफिस के स्टाफ को वर्क फ्रॉम होम के ऑप्शन को चुनने का मौका मिल सके। इसके लिए श्रम मंत्रालय (Ministry Of Labour & Employment) की तरफ से शुक्रवार को एक ड्राफ्ट जारी किया गया है।

इन सेक्टर्स के कर्मचारियों को किया जाएगा शामिल
एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नए कानून के ड्राफ्ट में माइनिंग (Mining), मैनुफैक्चरिंग (Manufacturing) और सर्विस सेक्टर (Service Sector) के कर्मचारियों (Staff) को शामिल किया जाएगा। श्रम मंत्रालय के वर्क फ्रॉम होम ड्राफ्ट के मुताबिक, IT सेक्टर को कई सहूलियत दी जा सकती है। ड्राफ्ट की मानें तो आईटी स्टाफ को वर्किंग ऑवर की भी छूट मिल सकती है। मंत्रालय के मुताबिक, आईटी सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए भी प्रावधान किया गया है।


कर्मचारियों को मिलेगी ये सुविधा
श्रम मंत्रालय का कहना है कि सर्विस सेक्टर की आवश्यकता के हिसाब से पहली बार अलग मॉडल तैयार किया गया है। मंत्रालय के इस वर्क फ्रॉम होम ड्राफ्ट में सभी श्रमिकों के लिए ट्रेन यात्रा की भी सुविधा का प्रावधान किया गया है। इससे पहले ये सुविधा केवल खनन क्षेत्र के श्रमिकों को ही मिलती थी। केवल इतना ही नहीं इस मसौदे में अनुशासन तोड़ने वाले पर सजा का भी प्रावधान रखा गया है।

अप्रैल महीने से लागू हो सकते हैं नए नियम
मंत्रालय की ओर से न्यू इंडस्ट्रियल रिलेशन कोड (New Industrial Relations Code) पर आम जनता से सुझाव मांगे गए हैं। अगर आप भी सरकार को कोई सुझाव भेजना चाहते हैं तो तीस दिनों के अंदर मंत्रालय के पास भेज सकते हैं। माना जा रहा है कि इस नए नियम को सरकार अप्रैल महीने से लागू कर सकती है।


कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट सख्त: सरकार को भेजा नोटिस, पूछा...

कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट सख्त: सरकार को भेजा नोटिस, पूछा...

ई दिल्ली: देश में कोरोना से हालात हर दिन बिगड़ते जा रहे हैं। अब इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने भारत में कोरोना वायरस के मौजूदा हालात पर स्वत: संज्ञान लिया है। देश की सर्वोच्च अदालत ने सुनवाई के बाद केंद्र सरकार को नोटिस भेजा है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए नेशनल प्लान क्या है।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि देश को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। सुप्रीम कोर्ट ने ऑक्सीजन की आपूर्ति और आवश्यक दवाओं के मुद्दे पर स्वत: संज्ञान लिया। सीजेआई एसए बोबडे ने कहा कि कि अदालत इस मामले की सुनवाई शुक्रवार को करेगी। कोर्ट ने हरीश साल्वे को एमिकस क्यूरी भी नियुक्त किया है।


Suzuki Hayabusa का नया अवतार इस दिनांक को होगा लॉन्च, मूल्य       Royal Enfield की इस सस्ती बाइक की मार्केट में धूम, बिक्री में पूरे 286 परसेंट की बढ़ोत्तरी       Ola Electric हिंदुस्तान में लगाएगा दुनिया का सबसे बड़ा चार्जिंग सेटअप       दमदार ड्राइविंग रेंज के साथ महज 18 मिनट में होगी चार्ज, Ola इलेक्ट्रिक स्कूटर जुलाई मे होगी लॉन्च       लीक हुई Mi 11X Pro और Mi 11X की कीमत       जानिए कैसा है 48MP कैमरे वाला यह स्मार्टफोन       WhatsApp यूजर्स के लिए चेतावनी! भूलकर भी नहीं करें ये गलतियां       Realme के 6000mAh बैटरी वाले फोन की मूल्य में कटौती       Apple ने हिंदुस्तान में लॉन्च किया iPad Pro, बढ़िया डिस्प्ले और 5G कनेक्टिविटी के साथ मिलेंगे कई खास फीचर्स       कार या बाइक चलाते समय नहीं कटवाना चाहते हैं Challan तो इन ऐप का करें इस्तेमाल       जोड़ों के दर्द या अर्थराइटिस की समस्या से आराम दिलाती है ब्रोकली       सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर करने के कुछ आसान घरेलु उपाय       अगर कमजोर हो गयी है आपकी याददाश्त तो जरूर करें ये उपाय       गर्मियों में स्वस्थ रहने के लिए जरुरी है इन चीजों का सेवन       आखिर प्रेग्नेंसी में क्यों दी जाती है सूखा नारियल खाने की सलाह       क्या आप भी प्लान कर रहे हैं बच्चा तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये चीजें       शायद आप नहीं जानते होंगे नाश्ते में अंडे खाने के ये जबरदस्त फायदे       दांतों को कमजोर बना सकती हैं ये चीजें, भूलकर भी ना करें इन चीजों का सेवन       गर्मियों में तरबूज का ज्यादा सेवन भी सेहत को पहुंचा सकता है नुकशान       गले के रोग को हल्के में न लें, लापरवाही बन सकती है इस बड़ी बीमारी की वजह