लक्खीबागी में हुआ कर्मचारी संघ का जिला सम्मेलन,केंद्र सरकार की नीतियों के कारण बने हैं बंधुवा मजदूर: नवीन चौधरी

लक्खीबागी में हुआ कर्मचारी संघ का जिला सम्मेलन,केंद्र सरकार की नीतियों के कारण बने हैं बंधुवा मजदूर: नवीन चौधरी

झुमरी तिलैया/ शनिवार को राज्य पेयजल एवं स्वच्छता विभाग कर्मचारी संघ का प्रथम जिला सम्मेलन लखीबागी में हुआ। इसकी अध्यक्षता सुभाष शर्मा और भातु चौधरी ने की।इसमें मुख्य वक्ता-सह-उद्घाटनकत्र्ता अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के राज्य अध्यक्ष नवीन चौधरी, विशिष्ट अतिथि राज्य महासंघ के कामेश्वर प्रसाद, राज्य अवर वन सेवा संघ के महामंत्री शिवनारायण महतो, रांची अवर वन सेवा संघ के जिला अध्यक्ष शिवनारायण पासवान, झारखण्ड राज्य अराजपत्रित कम र्चारी महासंघ के जिला अध्यक्ष साथी शैलेन्द्र कुमार तिवारी, जिला मंत्री शशि कुमार पाण्डेय, जिला संयुक्त मंत्री दिनेश रविदास एव ं पूर्व कर्मचरी नेता जगदीश चौधरी उपस्थित थे। सम्मेलन में सर्व प्रथम शोक प्रस्ताव पेश किया गया।

 इसके बाद महासंघ के राज्य अध्यक्ष नवीन चौधरी के नेतृत्व में सामुहिक रूप से दीप प्रज्जवलित कर उद्घाटन किया गया।महासंघ के राज्य अध्यक्ष साथी नवीन चौधरी ने बताया कि स्वास्थ्य, पेयजल सहित अन्य विभागों में बाह ्यस्त्रोत से कर्मचारियों से कार्य लिया जा रहा है। इन कर्मचारियों को न समय पर मानदेय दिया जाता है और न ही ंसमय सीमा के अन्दर कार्य लिया जाता है। वहीं दूसरी तरफ स्थायी कम र्चारियों के भी श्रम का बड़े पैमाने पर शाेषण किया जा रहा हैं।

सरकार अपने कर्मचारियों से बंधुवा मजदूर के रूप में कार्य लेकर इनके भविष्य एवं विभाग के साथ खिलवाड़ कर रहा है। सम्मेलन में पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की कमिटि का गठन किया गया। जिसके संरक्षक दिनेश रविदास, सम्मानित अध्यक्ष जगदीश चौधरी, अध्यक्ष भातू चौधरी, जिला मंत्री सुभाष शर्मा, उपाध्यक्ष धरीक्षण प्रसाद, ईश्वर दास, मोहन साव, संयुक्त मंत्री विक्की कुमार, दिनेश गोप, किशोर राम, संगठन मंत्री दशरथ सिंह, विजय कुमार शर्मा, राहुुल कुमार वर्मा, कोषाध्यक्ष विरेन्द्र कुमार चौधरी, अंकेक्षक प्रकाश यादव, संघर्ष मंत्री अरविन्द सिंह, संघर्ष अध्यक्ष हुलास यादव, संघर्ष संयुक्त मंत्री अर्जुन यादव, संघर्ष उपाध्यक्ष महेन्द्र कुमार चुने गए। 


अब महँगा होगा दूध, सरकार नहीं किसानों ने किया बड़ा ऐलान!

अब महँगा होगा दूध, सरकार नहीं किसानों ने किया बड़ा ऐलान!

नई दिल्लीः  नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शनरत किसान संगठनों का पैतरा दिन ब दिन बदलता जा रहा है। एक तरफ जहां किसान नेता राकेश टिकैत संसद के घेराव की बात कहकर सरकार के पेशानी पर बल डाल दिया हैं, वहीं सिंघु बार्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने दूध के दाम में बढ़ोत्तरी करने करने की बात कही है। बता दें कि कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है। साथ ही पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश में किसान संगठनों की तरफ से पंचायत व महापंचायत कर आंदोलन को और धार देने की तैयारी की जा रही है।

जानें क्या है सच्चाईः
केंद्र सरकार की तरफ से किसान बिल को पास किया हैं तभी से किसानों ने इस बिल के विरोध में उतर गए है। यह विरोध इताना बढ़ गया है कि बीते दिन एक किसान ने अपनी खड़ी गेहूं की फसल पर ट्रैक्टर चला दिया, जिसके बाद से किसानों में इस आंदोलन को बढ़ाने के लिए हौसला और बढ़ गया। सिंघु बार्डर पर बैठे संयुक्त मोर्चा के पदाधिकारियों ने बताया कि एक मार्च से किसान दूध के दामों को बढ़ाने वाले हैं। अगर ऐसा होता है तो 50 रुपये लीटर बिकने वाला दूध दोगुनी कीमत यानी 100 रुपये लीटर हो जाएगा।

पदाधिकारी मलकीत सिंह ने क्या कहाः
सिंघु बार्डर पर बैठे संयुक्त मोर्चा के पदाधिकारी मलकीत सिंह का कहना है कि केंद्र सरकार ने डीजल के दाम बढ़ाकर किसानों को चौतरफा घेरने की कोशिश में लगी हुई है, लेकिन संयुक्त किसान मोर्चा ने इसका तोड़ निकलाते हुए दूध के दाम दोगुने करने का कड़ा फैसला ले लिया है। अगर सरकार अब भी न मानी तो आने वाले दिनों में आंदोलन को शांतिपूर्वक आगे बढ़ाते हुए हम सब्जियों के दामों में भी वृद्धि करेंगे।

जनता पर भार पड़ने पर क्या कहा:
मलकीत सिंह ने कहा कि अगर जनता 100 रुपये लीटर पेट्रोल ले सकती है तो फिर 100 रुपये लीटर दूध क्यों नहीं खरीद सकती। अब तक किसान एक लीटर दूध को नो प्राफिट, नो लॉस पर बेचता आया है। यह तो अभी शुरुआत होगी, अगर सरकार फिर भी कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती है, तो आने वाले दिनों में सब्जियों के दाम दोगुने किए जाएंगे।

इससे पहले किसानों की तरफ से खड़ी फसल को बर्बाद करने का सिलसिला शुरू किया गया था। इसके बाद से राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा था कि हम सभी किसान भाई अपनी फसल को जला देंगे। जिसके बाद से एक किसान ने अपनी खड़ी गेंहू फसल पर ट्रैक्टर चला दिया था। आपको बताते चलें कि किसानों ने कहा है जब तक मोदी सरकार कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती तब तक किसान ऐसे ही आंदोलन चलाते रहेंगे। और सभी किसान आने वाले समय में सब्जियों और दूध के दामों में बढ़ोत्तरी कर देंगे।


सहवाग ने इग्लैंड के बल्लेबाजों को किया ट्रोल, राहुल गांधी का ये वीडियो किया शेयर       सपा पर बरसे CM योगी, यहां गर्मी दिखाने की जरूरत नहीं       सावधान सोशल मीडिया पर, फेसबुक-ट्विटर हो या नेटफ्लिक्स-अमेजन       अब महँगा होगा दूध, सरकार नहीं किसानों ने किया बड़ा ऐलान!       धरती पर दिखा स्वर्ग, ऐसा नजारा कभी नहीं देखा होगा       सबसे महंगी Biryani: नाम है इसका रॉयल गोल्ड       दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का नाम रखा गया नरेंद्र मोदी स्टेडियम       खेल दी 152 रन की पारी और लगाए 5 छक्के 14 चौके, विराट की टीम के ओपनर बल्लेबाज ने मचाया हड़कंप       क्या है India vs England के बीच खेले जाने वाले डे-नाइट टेस्ट की टाइमिंग       नेशनल ड्यूटी के लिए IPL को भी छोड़ सकता है ये खिलाड़ी       रॉबिन उथप्पा व विष्णु विनोद के शतक से सचिन बेबी की टीम को मिली जीत       Happy Birthday Divya Bharti: एक्टिंग के लिए इस एक्ट्रेस ने 16 साल की उम्र में छोड़ दी थी पढ़ाई       Shilpa Shetty In Maldives: इस एक्ट्रेस ने पति संग मालदीव्स में की Pawri       OMG! Aamir Khan के भांजे इमरान ने कजिन जाएन मेरी की कराई शादी       टीज़र देख क्या बोले अक्षय कुमार, प्रियंका चोपड़ा और करण जौहर       जॉन अब्राहम और इमरान हाशमी के बीच कांटे की टक्कर       क्या आपको भी सपने में दिखती हैं ये चीजें तो...       मंगलवार के दिन हनुमानजी को इस उपाय से करें प्रसन्न       रवि योग में जया एकादशी आज, जानें मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल       आज है प्रदोष व्रत, जानें किस मुहूर्त में करें पूजा और इसका धार्मिक मान्यता