राष्ट्रीय

मुसलमानों का नजरिया बदल रहा है पीएम मोदी के प्रति : अब्दुल सलाम

लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा अब तक 290 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है एम अब्दुल सलाम (मलप्पुरम) को अल्पसंख्यक समुदाय से पहला उम्मीदवार घोषित किया गया है. वह केरल के कोझिकोड यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति हैं. मलप्पुरम कांग्रेस पार्टी की सहयोगी भारतीय यूनियन मुसलमान लीग (आईयूएमएल) का गढ़ बना हुआ है. पार्टी को चुनौती देने के लिए यहां अब्दुल सलाम को मैदान में उतारा गया है इसका कारण मलप्पुरम जिले में मुसलमानों की जरूरी उपस्थिति है. अब्दुल सलाम ने कहा

कांग्रेस और वामपंथी समेत विपक्षी दल मुसलमानों का वोट पाने के लिए यह दिखा रहे हैं कि सीएए हमारे विरुद्ध है. इस मामले पर बड़ी संख्या में लोग छद्म बुद्धिजीवियों के दुष्प्रचार पर भी विश्वास कर रहे हैं विभाजन से प्रभावित अल्पसंख्यकों को इन्साफ दिलाने के लिए सीएए बनाया गया. पाक और बांग्लादेश में अधिकतर मुस्लिम प्रभावित नहीं हैं. इसलिए, मुसलमानों को इस बात का एहसास होना चाहिए कि उन्हें सीएए सूची में क्यों शामिल नहीं किया गया है.

IUML के केरल प्रदेश अध्यक्ष सादिक अली शिहाब थंगल ने बोला था कि राम मंदिर के विरुद्ध लड़ने की आवश्यकता नहीं है मुसलमानों के बीच पीएम मोदी के प्रति नजरिया धीरे-धीरे बदल रहा है. क्या पिछले दस वर्षों में एक भी मुस्लिम प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी से प्रभावित हुआ है? मुसलमानों को उनसे क्यों डरना चाहिए? मैं कई मुसलमान माताओं से मिली हूं जिन्होंने तीन तलाक पर प्रतिबंध का समर्थन किया.

उन्हें लगता है कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनकी बेटियों की रक्षा की है तीन तलाक पर बैन के बाद युवा मुसलमान महिलाएं भी प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का समर्थन करने लगीं तीन तलाक पर प्रतिबंध से मुक्त हुई कई स्त्रियों का समर्थन बीजेपी को है. इसी तरह इसमें कोई संदेह नहीं कि ईसाई भी भाजपा के करीब आ रहे हैं मध्य और पूर्वी एशियाई राष्ट्रों के मुस्लिम पीएम मोदी के करीब हो गए हैं लेकिन उन राष्ट्रों से करीबी संबंध रखने वाले केरल के मुस्लिम प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के पास जाने से कतरा रहे हैं. केरल में भाजपा एक उभरती हुई पार्टी बन गई है उन्होंने ये बात कही

भाजपा अल्पसंख्यक विरोधी पार्टी होने की अपनी धारणा को बदलने की पुरजोर प्रयास कर रही है. पीएम मोदी भी उस मानसिकता को बदलना चाहते हैं इसके तहत, केंद्र गवर्नमेंट ने तीन तलाक की प्रथा पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसका मुसलमानों के बीच सालों से दुरुपयोग किया जा रहा था. इसी का नतीजा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में मुसलमान स्त्रियों ने भाजपा को वोट दिया था

Related Articles

Back to top button