भारत के साथ आया ये देश, LAC पर चीन ने किया जंग ऐलान

भारत के साथ आया ये देश, LAC पर चीन ने किया जंग ऐलान

नई दिल्ली। अमेरिका(America) ने भारत की उस समय मदद की है जब चीन(China) के साथ तनाव चरम पर है। चीन को कमजोर करने के लिए अमेरिका ने अपनी नौसेना के हथियारों में से तीन 127 मीडियम कैलीबर बंदूकें भारत को देने का फैसला किया है। अमेरिका की तरफ से ये बंदूकें 3800 करोड़ रुपए की समझौते के तहत मिलने वाली हैं। ऐसे में सबसे खास बात ये है कि भारत लगातार अमेरिका के साथ अपने सैन्य संबंध मजबूत कर रहा है। वहीं हाल ही में भारत ने अमेरिका से दो ड्रोन भी लीज पर लिए हैं। इन बंदूकों को समुद्र में तैनात युद्धपोतों पर भेजा जाना है।

युद्धपोतों तक जल्द से जल्द हथियार
ऐसे में भारत ने अमेरिकी सरकार के नाम एक लैटर ऑफ रिक्वेस्ट जारी किया था। इस पत्र के जरिए भारत ने 11 127एमएम मीडियम कैलीबर बंदूकों की मांग की थी। इन बंदूकों को भारतीय नौसेना के बड़े युद्धपोतों पर भेजा जाना है। सूत्रों से सामने आई जानकारी में बताया कि अमेरिका अपने हथियारों में से तीन बंदूकें भारतीय नौसेना को देगी, जिससे भारतीय युद्धपोतों तक जल्द से जल्द हथियार भेजे जा सकें।

अमेरिका ने फिलहाल नई बंदूकों का उत्पादन शुरू नहीं किया है। इसके साथ ही नई बंदूकों को बनाने का काम शुरू होने के बाद जैसे ही वे डिलीवरी के लिए तैयार होंगी, अमेरिकी नौसेना के हिस्से की बंदूकों को वापस बुला लिया जाएगा। मीडियम कैलीबर बंदूकें भारतीय सेना में नई होंगी।

अमेरिका से अच्छे संबंध
सबसे खास बात है कि भारतीय नौसेना ने अमेरिका से अच्छे संबंध स्थापित कर लिए हैं। भारत ने भी पिछले कुछ समय में अमेरिका से बड़ी मात्रा में हथियारों का अधिग्रहण किया है। वहीं निगरानी के लिए उपयोग में लाएं जा रहे हवाई जहाजों की जगह P-8I जहाज ने ले ली है। वहीं, अमेरिका से मिल रहे MH-60 रोमियोज हैलीकॉप्टर्स, सीकिंग चॉपर्स की जगह लेंगे।

बेहद ताकतवर हो रही भारतीय नौसेना अपने युद्धपोतों को आधुनिक और ताकतवर बनाने की तैयारियों में जुटी हुई है। कुछ दिनों पहले ही सरकार ने सेना को 10 जहाजी ड्रोन खरीदने का फैसला किया था। वहीं भारतीय नौसेना ने ये कदम चीन के साथ जारी तनाव को देखते हुए उठाया था।


कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट सख्त: सरकार को भेजा नोटिस, पूछा...

कोरोना पर सुप्रीम कोर्ट सख्त: सरकार को भेजा नोटिस, पूछा...

ई दिल्ली: देश में कोरोना से हालात हर दिन बिगड़ते जा रहे हैं। अब इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने भारत में कोरोना वायरस के मौजूदा हालात पर स्वत: संज्ञान लिया है। देश की सर्वोच्च अदालत ने सुनवाई के बाद केंद्र सरकार को नोटिस भेजा है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए नेशनल प्लान क्या है।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि देश को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। सुप्रीम कोर्ट ने ऑक्सीजन की आपूर्ति और आवश्यक दवाओं के मुद्दे पर स्वत: संज्ञान लिया। सीजेआई एसए बोबडे ने कहा कि कि अदालत इस मामले की सुनवाई शुक्रवार को करेगी। कोर्ट ने हरीश साल्वे को एमिकस क्यूरी भी नियुक्त किया है।


Suzuki Hayabusa का नया अवतार इस दिनांक को होगा लॉन्च, मूल्य       Royal Enfield की इस सस्ती बाइक की मार्केट में धूम, बिक्री में पूरे 286 परसेंट की बढ़ोत्तरी       Ola Electric हिंदुस्तान में लगाएगा दुनिया का सबसे बड़ा चार्जिंग सेटअप       दमदार ड्राइविंग रेंज के साथ महज 18 मिनट में होगी चार्ज, Ola इलेक्ट्रिक स्कूटर जुलाई मे होगी लॉन्च       लीक हुई Mi 11X Pro और Mi 11X की कीमत       जानिए कैसा है 48MP कैमरे वाला यह स्मार्टफोन       WhatsApp यूजर्स के लिए चेतावनी! भूलकर भी नहीं करें ये गलतियां       Realme के 6000mAh बैटरी वाले फोन की मूल्य में कटौती       Apple ने हिंदुस्तान में लॉन्च किया iPad Pro, बढ़िया डिस्प्ले और 5G कनेक्टिविटी के साथ मिलेंगे कई खास फीचर्स       कार या बाइक चलाते समय नहीं कटवाना चाहते हैं Challan तो इन ऐप का करें इस्तेमाल       जोड़ों के दर्द या अर्थराइटिस की समस्या से आराम दिलाती है ब्रोकली       सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को दूर करने के कुछ आसान घरेलु उपाय       अगर कमजोर हो गयी है आपकी याददाश्त तो जरूर करें ये उपाय       गर्मियों में स्वस्थ रहने के लिए जरुरी है इन चीजों का सेवन       आखिर प्रेग्नेंसी में क्यों दी जाती है सूखा नारियल खाने की सलाह       क्या आप भी प्लान कर रहे हैं बच्चा तो आज से ही खाना शुरू कर दें ये चीजें       शायद आप नहीं जानते होंगे नाश्ते में अंडे खाने के ये जबरदस्त फायदे       दांतों को कमजोर बना सकती हैं ये चीजें, भूलकर भी ना करें इन चीजों का सेवन       गर्मियों में तरबूज का ज्यादा सेवन भी सेहत को पहुंचा सकता है नुकशान       गले के रोग को हल्के में न लें, लापरवाही बन सकती है इस बड़ी बीमारी की वजह