राष्ट्रीय

गाजियाबाद में अवैध हथियारों की तस्करी करने वाले चार शातिर तस्कर हुए गिरफ्तार

गाजियाबाद में अपराध ब्रांच ने गैरकानूनी हथियारों की स्मग्लिंग करने वाले 4 शातिर अंतरराज्यीय तस्करों को अरैस्ट किया है. टीम ने इनके कब्जे से 4 पिस्टल, मैगजीन और 6 तमंचे बरामद किए हैं.

क्राइम ब्रांच ने आरोपियों को थाना मुरादनगर क्षेत्र से अरैस्ट किया. आरोपी अनस ने पूछताछ के दौरान कहा कि उसने दिल्ली यूनिवर्सिटी से मास कम्युनिकेशन किया है.

पढ़ाई के बाद उसकी दोस्ती आपराधिक लोगों से हो गयी. इसी बीच उसकी मुलाकात मेरठ के अमन उर्फ अन्नू से हुई, जो बिहार और मध्य प्रदेश से स्मग्लिंग कर लाई गईं पिस्टलों की सप्लाई करने का काम करता था.

अनस उसके साथ मिलकर इर्द-गिर्द के क्षेत्रों में पिस्टल बिकवाने लगा. अनस 2021 मे मुरादनगर में शाहरुख के हत्या में कारावास गया था. कारावास से छूटने के बाद इसकी मुलाकात अनस गाजी से हुई. वह भी हत्या, रंगदारी और मर्डर के कोशिश आदि मामलों में कारावास जा चुका है.

दोनों मेरठ के बिजली बंबा निवासी मोईन और हुमायूं नगर निवासी अमन उर्फ अन्नू से पिस्टल और तमंचे लाते हैं और उनको ईनाम, आरिफ और अंकित के माध्यम से आगे बेच देते हैं.

पकड़े गए दूसरे आरोपी अनस ने पुलिस पूछताछ में कहा कि वह 10वीं पास है. वर्ष 2016 में पहली बार मर्डर के कोशिश में कारावास गया था. तीसरा आरोपी आरिफ कुरैशी 5वीं पास है. वह शातिर प्रजाति का क्रिमिनल है.

चौथे आरोपी पुरस्कार कुरैशी ने कहा कि वह मूल रूप से गौतमबुद्ध नगर के जारचा का रहने वाला है. लेकिन इस समय गाजियाबाद में डासना गेट में किराये के मकान में रहता है. वह भैंसों के खरीदने-बेचने का काम करता था. 2014 में नौशाद हत्या में कारावास गया था.

पुलिस ने कहा कि सभी आरोपी शातिर प्रजाति के अंतरराज्यीय हथियार स्मग्लर हैं. ये पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली-एनसीआर में हथियारों की स्मग्लिंग करते हैं. आरोपियों से मिली जानकारी के आधार पर टीमें रैकेट के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही हैं.

Related Articles

Back to top button