राष्ट्रीय

कांग्रेस ने नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार को करार दिया पेपर लीक सरकार

यूजीसी-नेट परीक्षा रद्द किये जाने के तुरंत बाद, बुधवार को कांग्रेस पार्टी ने केंद्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली गवर्नमेंट को ‘‘पेपर लीक सरकार’’ करार दिया और पूछा कि क्या शिक्षा मंत्री अब जिम्मेदारी लेंगे.

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा ‘नीट’ में कथित अनियमितताओं को लेकर भी गवर्नमेंट पर धावा किया और पूछा कि पीएम मोदी ‘‘नीट परीक्षा पे चर्चा’’ कब करेंगे.
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाद्रा ने शिक्षा मंत्रालय द्वारा यूजीसी-नेट परीक्षा रद्द करने के आदेश के बाद गवर्नमेंट की निंदा की और ज़िम्मेदारी तय करने की मांग की.

खरगे ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, आप परीक्षाओं पर तो खूब चर्चा करते हैं, लेकिन नीट परीक्षा पे चर्चा कब करेंगे. यूजीसी-नेट परीक्षा रद्द होना लाखों विद्यार्थियों के जुनून की जीत है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह मोदी गवर्नमेंट के अहंकार की हार है, जिसके कारण उन्होंने हमारे युवाओं के भविष्य को कुचलने का निंदनीय कोशिश किया.’’
खरगे ने बोला कि केंद्रीय शिक्षा मंत्री (धर्मेंद्र प्रधान) पहले कहते हैं कि नीट में कोई पेपर लीक नहीं हुआ, लेकिन जब बिहार, गुजरात और हरियाणा में शिक्षा माफिया की गिरफ्तारी हुई, तो मंत्री ने ‘‘स्वीकार किया कि कुछ भ्रष्टाचार हुआ है.’’

कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रश्न किया, ‘‘नीट परीक्षा कब रद्द होगी?’’
खरगे ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी, अपनी गवर्नमेंट की गड़बड़ी और नीट परीक्षा में पेपर लीक को रोकने की जिम्मेदारी लीजिए.’’
कांग्रेस ने इल्जाम लगाया कि मोदी के नेतृत्व वाली गवर्नमेंट युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है.

कांग्रेस ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘कल राष्ट्र के विभिन्न शहरों में यूजीसी-नेट परीक्षा आयोजित की गई थी. आज पेपर लीक के शक में परीक्षा रद्द कर दी गई. पहले नीट का पेपर लीक हुआ और अब यूजीसी-नेट का पेपर लीक हुआ. मोदी गवर्नमेंट पेपर लीक गवर्नमेंट बन गई है.’’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गवर्नमेंट पर धावा करते हुए ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ‘‘भाजपा गवर्नमेंट का लीकतंत्र और लचरतंत्र युवाओं के लिए खतरनाक है. नीट परीक्षा में हुए घपले की खबरों के बाद अब 18 जून को हुई नेट की परीक्षा भी गड़बड़ियों की संभावना के चलते रद्द की गई.

Related Articles

Back to top button