बिहारलाइफ स्टाइल

इस फूल की खेती करने से भी कमा सकते हैं लाखों रुपए

एक समय था जब मंदिरों में पूजा करने और बड़े-बड़े शहरों में आयोजित होने वाले बड़े-बड़े कार्यक्रमों में बड़े पैमाने पर फूलों की डिमांड होती थी लेकिन अब पैटर्न बदल गया है अब न केवल मेट्रो सिटी, बल्कि छोटे-छोटे शहरों और कस्बों में भी फूलों की मांग बढ़ने लगी है खासतौर से त्योहार और शादी-विवाह के समय में तो फूलों की सबसे अधिक डिमांड होती है

यही कारण है कि अब बिहार में भी फूलों की खेती बड़े पैमाने पर की जाने लगी है हालांकि अभी बिहार में सबसे अधिक गेंदा फूल की ही खेती की जा रही है यही कारण है कि वैशाली जिले में भी गेंदा फूल की खेती प्रारम्भ हो गई है

तीन सीजन में खिलता है गेंदा

वैशाली जिले के बीबीपुर गांव के रहने वाले किसान सुनील कुमार सिंह पहले परंपरागत खेती करते थे लेकिन वे पिछले 11 वर्षोंसे फूल की खेती कर रहे हैं वे कहते हैं कि धान और गेहूं की खेती में बहुत अधिक लाभ नहीं हो पा रहा था अलबत्ता उन्हें हानि ही हुआ तभी साल 2012 में उन्होंने अपने एक मित्र को देखा कि वह फूलों की खेती कर अच्छा फायदा कमा रहा है

इसके बाद सुनील ने भी एक एकड़ में फूल की खेती प्रारम्भ कर दी पहली ही बार में तीन माह के अंदर एक लाखसे अधिक का फायदा कमा लिया इसके बाद से वे लगातार एक एकड़ में गेंदा फूल की खेती कर रहे हैं सुनील कहते हैं कि वर्ष में तीन सीजन में गेंदा फूल खिलता है

प्रति कट्ठा 6000 का मुनाफा

वह बताते हैं कि गेंदा फूल की मांग अधिकांश दीपावली, विवाह और बड़े-बड़े कार्यक्रमों में होती है वे बताते हैं कि एक कट्ठा खेत में फूल के 1000 पौधे लगाए जाते हैं फूल जब खिलने लगता है, तो एक कट्ठा खेत से 6000 से अधिक रुपए का फायदा होता है

सुनील कुमार सिंह बताते हैं कि वे एक एकड़ में गेंदा फूल की खेती करते हैं इसमें मेहनत थोड़ा अधिक लगता है लेकिन नगदी फसल है फायदा बढ़िया होता है इस कारण फूल की खेती करते हैं सुनील बताते हैं कि वेमुजफ्फरपुर और हाजीपुर के मंडी में इस फूल को बेचा जाता है वहां अच्छा दर मिल जाता है

Related Articles

Back to top button