मुल्तानी मिट्टी के प्रयोग से स्कीन को नुकसान भी होने कि सम्भावना 

मुल्तानी मिट्टी के प्रयोग से स्कीन को नुकसान भी होने कि सम्भावना 

सुंदर (Attractive face) व सुन्दर चेहरा (Face) कौन नहीं चाहता। लड़का हो या लड़की दोनों ही अपने चेहरे को निखारने के लिए तमाम ब्यूटी प्रोडक्टस यूज करते हैं। 

इसके साथ ही बुहत से लोग स्कीन (skin) की सुंदरता को बढ़ाने के लिए मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग करते हैं, अगर नहीं भी करते तो जब बात स्कीन की सुंदरता को निखारने की आती है तो मुल्तानी मिट्टी लगाने की सलाह देते अधिकांश लोग मिल जाते हैं। लोगों का ऐसा मानना है कि इसमें बहुत सारे औषधीय गुणों की भरमार होती है। जिससे स्कीन को स्वस्थ व खूबसूरत बनाया जा सकता है। लेकिन क्या इसके बारे में भी जान लेना चाहिए कि लगातार मुल्तानी मिट्टी के प्रयोग से स्कीन को नुकसान भी होने कि सम्भावना है।

संवेदनशील स्कीन को होने कि सम्भावना है नुकसान
उन लोगों को लगातार मुलतानी मिट्टी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जिनकी स्कीन संवेदनशील है। संवेदनशील स्कीन वालों को मुल्तानी मिट्टी के अतिरिक्त भी कई ब्यूटी प्रोडक्ट नुकसान पहुंचा सकते हैं। ज्यादा मुल्तानी मिट्टी का उपयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से चेहरे पर दाने निकल सकते हैं। इसके साथ ही स्कीन के बेजान होने का भय भी रहता है।

ड्राई स्किन वालों को नुकसान



मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग हर किसी को नहीं करना चाहिए क्योंकि यह हर किसी के चेहरे को नहीं निखारती है। अगर ड्राई स्किन वाले इसका प्रयोग करेंगे तो ये ड्राई स्किन वालों के चेहरे को व भी ज्यादा रूखा व बेजान बना देगी। वहीं आंखों के आसपास के हिस्से पर इसे लगाने से ड्राईनेस बढ़ सकती है व स्कीन को नुकसान होने कि सम्भावना है।

सर्दी-जुकाम होने कि सम्भावना है
अगर किसी को सर्दी-खांसी की समस्या रहती है या किसी को जल्दी से सर्दी लग जाती है तो ऐसे लोगों को मुल्तानी मिट्टी को उपयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि मुल्तानी मिट्टी की तासीर ठंडी होती है, जिससे सर्दी-खांसी की समस्या बढ़ जाती है।

नियमित प्रयोग करने से बचें
अगर आप मुल्तानी मिट्टी के फेसपैक का प्रतिदिन प्रयोग करते हैं तो इसे तुरंत ही बंद कर देना चाहिए। प्रतिदिन इसके प्रयोग से चेहरे पर झुर्रियां आ सकती हैं। वहीं रैशेज भी पड़ सकते हैं। इसलिए मुल्तानी मिट्टी के प्रयोग से पहले इससे होने वाले नुकसान के बारे में जान लेने में ही भलाई है।