कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए इन तरीको से पहचाने लक्षण

कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए इन तरीको से पहचाने लक्षण

कोरोना वायरस के खतरे के बीच हर आदमी एक्सट्रा सावधानी बरतते हुए इस बीमारी से लड़ रहा है. वहीं, इस बीमारी के लक्षणों को लेकर अभी भी लोगों के बीच दुविधा की स्थिति देखी जा रही है. 

ऐसे में सेंटर फॉर कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की रिपोर्ट में कोरोना वायरस से जुड़ी कई बातें सामने आई हैं. इसमें सबसे खास बात यह है कि कोरोना वायरस से ग्रसित आदमी को तेजी से बुखार चढ़ता है. 
Center For Disease Control and Prevention (CDC) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, यदि इस बीमारी के दौरान किसी आदमी के शरीर का तापमान 100.4 डिग्री फैरेनहाइट या 38 डिग्री सेल्सियस है, साथ में खांसी व सांस लेने में भी परेशानी हो रही है तो इन लोगों को घर से बाहर बिल्कुल नहीं निकलना चाहिए. 
ये लक्षण भी हैं अहम 
सार्स कोरोना वायरस- 2 से ग्रसित लोगों में बुखार, थकान व सूखी खांसी आना सबसे सामान्य लक्षण हैं. लेकिन कुछ मरीजों में नाक बहना, गले में सूजन व दर्द, नाक बंद होना या नाक के जरिए सांस लेने में कठिनाई होना, शरीर में सुइयां चुभना व दर्द होना, डायरिया की समस्या होना भी शामिल हैं. साथ ही कई मामलोंं मेंं किसी वस्तु की गंंध व स्वाद भी चला जाता है. ऐसे में अगर आपको कई दिनों से ये कठिनाई है, तो आपको सावधान होने की जरुरत है. 
कोविड-19 से पीड़ित मरीजों में 80 फीसदी केस माइल्ड होते हैं, जो एक रेग्युलर कोल्ड की तरह अनुभव कराते हैं व अच्छा हो जाते हैं. इनमें अक्सर किसी खास उपचार की आवश्यकता नहीं होती. कई बार मरीज को इसका पता भी नहीं चलता कि वह कोविड-19 से ग्रसित है.यह स्थिति खासतौर पर उन लोगों में देखने को मिलती है, जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हो. जैसे, हार्ट की बीमारी, बीपी, डायबिटीज या कोई क्रानिक रेस्पेरेट्री कंडीशन जैसे अस्थमा का रोग. नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस)की सलाह है कि जिस किसी भी आदमी के अंदर इस तरह के लक्षण नजर आएं, उस आदमी को कम से कम 7 दिन घर के अंदर ही रहना चाहिए व इस दौरान परिवार के लोगों से भी दूरी बनाए रखनी चाहिए. अगर आप परिवार के साथ रह रहे हैं तो उन्हें 14 दिन घर के अंदर रहना चाहिए.