इस देश में धूम्रपान पर लगाया गया यह बड़ा प्रतिबंध, उलंघन करने पर होती है यह सजा

इस देश में धूम्रपान पर लगाया गया यह बड़ा प्रतिबंध, उलंघन करने पर होती है यह सजा

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि स्मोकिंग करना स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसानदायक है लेकिन फिर भी लोग स्मोकिंग करते ही है. संसार के कई राष्ट्रों में स्मोकिंग बैन तो नहीं है लेकिन फिर भी कई सार्वजनिक स्थलों पर इसे बैन किया गया है. क्या आप जानते हैं कि आयरलैंड संसार का ऐसा पहला देश है, जिसने सार्वजनिक स्थलों पर स्मोकिंग बैन की थी.


आयरलैंड में सार्वजनिक जगहों पर स्मोकिंग बैन का निर्णय 29 मार्च 2004 को लिया गया. ऐसा निर्णय लेने वाला आयरलैंड संसार का पहला देश बना. इस निर्णय के बाद Public Health (Tobacco) Acts के मुताबिक, सभी सीमित स्थान वाले (बंद) कार्यस्थलों पर धूम्रपान करना गैरकानूनी करार दिया गया.
जिन सार्वजनिक जगहों पर स्मोकिंग बैन की गई उनमें बार, रेस्टोरेंट्स, क्लब्स, ऑफिस, पब्लिक बिल्डिंग्स, कंपनी की कार, ट्रक, टैक्सी व वैन शामिल हैं. व्यक्तिगत घर भी तब कार्यस्थल माना जाएगा जब वहां प्लंबर या इलेक्ट्रीशियन कार्य कर रहे हों. ऐसी सिचुएशन में भी स्मोकिंग बैन है.

नियम तोड़ने पर इतना था जुर्माना 
आयरलैंड में सार्वजनिक जगहों पर स्मोकिंग बैन का नियम तोड़ने पर €3,000 (2 लाख 33 हजार से ज्यादा) का चालान कटता है. नियम का उल्लंघन करने वालों को कारागार की सजा भी दी जा सकती है.
2004 के कानून से पहले भी वहां धूम्रपान अवैध ही था. तब इसके दायरे में जो जगहें थीं वे पब्लिक बिल्डिंग्स, हॉस्पिटल्स, स्कूल, रेस्टोरेंट किचन, सिनेमा, सार्वजनिक फार्मेसी, सार्वजनिक हेयरड्रेसिंग परिसर, पब्लिक बैंक हॉल्स, पब्लिक ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, बस व कुछ ट्रेन थीं.
29 मार्च 2004 के बाद स्मोकिंग से जुड़ा निर्णय 1 जुलाई 2009 को लिया गया. इस निर्णय में आयरलैंड ने स्टोर में तंबाकू का एडवरटाईजमेंट रखने पर प्रतिबंध लगा दिया. रीटेल शॉप में तंबाकू उत्पादों को रखना भी बैन हुआ.
सार्वजनिक जगहों पर स्मोकिंग बैन व तंबाकू से जुड़े ऐसे कड़े निर्णय लेने वाला यूरोपियन यूनियन में आयरलैंड पहला व संसार का तीसरा देश बना.