लाइफ स्टाइल

वक्री बृहस्पति इन 3 राशि वालो के लिए होगी शुभ फलदायी साबित

वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति को सात्विक ग्रह माना गया है जबकि बृहस्पति धन, समृद्धि, अध्यात्म, ज्योतिष, पूजा-पाठ, संतान का ग्रह है समृद्धि और बृहस्पति कारक हैं इसीलिए जब भी बृहस्पति की चाल में बदलाव होता है अत: सभी राशियाँ इन क्षेत्रों से प्रभावित होती हैं आपको बता दें कि बृहस्पति इस समय मेष राशि में परिक्रमा कर रहा है और सितंबर की आरंभ में वक्री होने जा रहा है जिसके कारण वक्री बृहस्पति 3 राशि वाले लोगों के लिए शुभ फलदायी साबित हो सकता है

धन

बृहस्पति की वक्र चाल आपके लिए शुभ साबित हो सकती है क्योंकि बृहस्पति आपकी गोचर कुंडली के पांचवें रेट में वक्री होने जा रहा है तो इस समय आपको संतान से जुड़ी कोई अच्छी समाचार मिल सकती है इससे बच्चे आगे बढ़ सकते हैं दूसरी ओर, बृहस्पति आपकी राशि से चरोतर और चतुर्थ रेट का स्वामी है तो इस समय आप कोई ज़मीन जायदाद भी खरीद सकते हैं साथ ही आपको सभी भौतिक सुखों की प्राप्ति हो सकती है वहीं प्रेम संबंधों में आपको कामयाबी मिल सकती है साथ ही यदि आप विद्यार्थी हैं तो इस अवधि में किसी कोर्स में दाखिला ले सकते हैं

एआरआईएस

बृहस्पति की वक्री चाल मेष राशि के जातकों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है क्योंकि बृहस्पति आपकी गोचर कुंडली के ऊपरी रेट में वक्री है साथ ही बृहस्पति आपकी राशि से 9वें और 12वें रेट का स्वामी है इसलिए इस समय आपकी किस्मत चमक सकती है साथ ही आप धार्मिक गतिविधियों में रुचि ले सकते हैं साथ ही इस समय आप बचत करने में भी सफल रहेंगे आपका झुकाव अध्यात्म की ओर हो सकता है साथ ही इस समय आपके चरित्र में भी निखार आएगा इसके साथ ही इस समय आपको अपनी संपत्ति को बढ़ाने के भी अच्छे मौके मिलेंगे करियर में तरक्की हो सकती है

कर्क राशि

बृहस्पति की वक्री चाल आपके लिए फायदेमंद हो सकती है क्योंकि बृहस्पति आपकी राशि से दसवें रेट में वक्री होने जा रहा है साथ ही यह छठे और नौवें रेट का स्वामी भी है इसलिए जो लोग बेरोजगार हैं उन्हें नयी जॉब मिल सकती है साथ ही व्यापारियों को भी इस समय अच्छा फायदा मिल सकता है कोई नया व्यापारिक सौदा हो सकता है, जो भविष्य में फायदा का संकेत देगा साथ ही भाग्य भी आपका साथ दे सकता है वहीं दूसरी ओर कोर्ट-कचहरी के मुद्दे में कामयाबी मिल सकती है

Related Articles

Back to top button