लाइफ स्टाइल

हाथी पर सवार माता रानी विराजेंगी हर द्वार,करे इस नवरात्र ये काम

Durga Puja 2023: शारदीय नवरात्र की आरंभ 15 अक्तूबर को हो रही है, इस दिन कलश स्थापन के साथ मां दुर्गा की अराधना प्रारम्भ होगी और 24 अक्टूबर को पूजा का समाप्ति होगा इस साल मां दुर्गा का आगमन हाथी पर होगा और घोड़े पर माता को विदाई दी जायेगी इस संबंध में बाबा नगरी के पंडित संजय मिश्र ने कहा कि अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 14 अक्टूबर को रात 11:24 बजे प्रारम्भ होगी और 16 अक्तूबर को प्रात: 12:03 बजे खत्म होगी शारदीय नवरात्रि में इस बार घटस्थापना के लिए 15 अक्तूबर को सुबह 11:44 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक शुभ मुहूर्त है कलश स्थापना के लिए 46 मिनट का शुभ समय रहेगा इस दिन चित्रा नक्षत्र का संयोग बन रहा है

  • इस बार विजया दशमी को पश्चिम की यात्रा होगी शुभ
  • हाथी से आगमन का मतलब सुख-समृद्धि बनी रहेगी
  • मां दुर्गा के प्रस्थान की सवारी घोड़ा है, जो कि शुभ संकेत नहीं है

प्रस्थान की सवारी घोड़ा, नहीं हैं शुभ संकेत

पंडित जी ने कहा कि शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आयेंगी सोमवार के दिन नवरात्रि की आरंभ हो, तो मां दुर्गा का गाड़ी हाथी होता है इस साल माता के आगमन को अति शुभ माना गया है खेती के लिए इसे अच्छा माना जाता है हाथी से आगमन का मतलब सुख-समृद्धि बनी रहेगी वहीं नवरात्र का व्रत करने वाले को समृद्धि प्राप्त होगी वहीं मां दुर्गा के प्रस्थान की सवारी घोड़ा है, जो कि शुभ संकेत नहीं है दुर्गा सप्तशती के वर्णन के अनुसार, देवी दुर्गा की विदाई का गाड़ी घोड़ा प्राकृतिक आपदाओं का प्रतीक हैं जानकारों के अनुसार, इसका अर्थ है कि हम भविष्य के संकटों के प्रति वर्तमान से ही सचेत हो जायें माता की कृपा से सभी तरह के संकट दूर होंगे माता अपने भक्तों के हर संकट को हरने वाली हैं

नवरात्रि 2023 तिथि

कलश स्थापन का 
शुभ मुहूर्त

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त अभिजीत मुहूर्त और प्रतिपदा तिथि में होता है पंडित जी के अनुसार, 15 अक्तूबर को 12 बजकर 24 मिनट में वैधृत योग प्रारम्भ हो रहा है, इसलिए शारदीय नवरात्रि में कलश स्थापना के लिए मात्र 46 मिनट का ही शुभ मुहूर्त है 15 अक्टूबर को सुबह 11:44 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक शुभ मुहूर्त है

Related Articles

Back to top button