लाइफ स्टाइल

जानें, इस साल कब है पौष पूर्णिमा की तिथि और पूजा विधि

हिंदू पंचांग के अनुसार, प्रत्येक वर्ष पौष महीने के शुक्ल पक्ष के दिन पूर्णिमा तिथि का व्रत रखा जाता है, जिसे पौष पूर्णिमा बोला जाता है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पौष पूर्णिमा के दिन विशेष रूप से ईश्वर विष्णु, माता लक्ष्मी और चंद्र देव की पूजा करते हैं ज्योतिषियों के अनुसार, जो आदमी पौष पूर्णिमा के दिन विधि-विधान से पूजा करते हैं, उनकी सारी परेशानियां समाप्त हो जाती हैं साथ ही घर में धन-संपत्ति में वृद्धि होती है

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पौष पूर्णिमा के दिन दान-स्नान का भी बहुत ही अधिक महत्व होता है मान्यता है कि दान-स्नान करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है साथ ही सभी मनोकामनाएं भी पूरी होती हैं आज इस समाचार में जानेंगे कि पौष माह की पूर्णिमा तिथि कब है, साथ ही इसका महत्व क्या है आइए विस्तार से जानते हैं

कब है पौष माह की पूर्णिमा तिथि

पंचांग के अनुसार, वर्ष 2024 में पूर्णिमा तिथि की आरंभ 24 जनवरी दिन बुधवार को रात 9 बजकर 49 मिनट पर हो रही है और समाप्ति 25 जनवरी 2024 दिन गुरुवार को रात 11 बजकर 23 मिनट पर होगा साथ ही यह दिन पूजा-पाठ करने के लिए बहुत शुभ माना जाता है ज्योतिषियों के अनुसार, पौष पूर्णिमा के व्रत के लिए चंद्रोदय का समय जरूरी होता है वहीं दान-स्नान करने के लिए उदया तिथि का महत्व होता है इसलिए उदया तिथि के अनुसार, पौष पूर्णिमा 25 जनवरी को मनाई जाएगी

पौष पूर्णिमा का क्या है महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पौष पूर्णिमा का विशेष महत्व है इस दिन दान-स्नान के साथ व्रत का भी महत्व होता है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जो जातक पौष पूर्णिमा के दिन व्रत रखता है उस पर मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती हैं साथ ही घर में कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है

Related Articles

Back to top button