लाइफ स्टाइल

जाने सूर्य ग्रहण की कुल अवधि, सूतक काल और इस दौरान क्या न करे

Solar Eclipse 2023: वर्ष का अंतिम सूर्य ग्रहण आज सर्व पितृ अमावस्या पर लगने जा रहा है ये सूर्य ग्रहण वर्ष का दूसरा ओर अंतिम सूर्य ग्रहण रहेगा ज्योतिष दृष्टि से सूर्य ग्रहण को बहुत जरूरी माना जाता है वहीं, ग्रहण के दौरान सूतक काल में कुछ कामों को करना शुभ नहीं माना जाता है इसलिए आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण की कुल अवधि, सूतक काल और इस दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं-

ग्रहण कब लगेगा? 
आखिरी सूर्य ग्रहण शनिवार के दिन 14 तारीक को लगने वाला है पंचांग के अनुसार, यह सूर्य ग्रहण आश्विन मास की अमावस्या तिथि पर लगेगा रात 8 बजकर 34 मिनट पर 14 अक्टूबर को वर्ष के अंतिम सूर्य ग्रहण की आरंभ होगी, जो मध्य रात्रि 2 बजकर 26 मिनट तक रहने वाला है आज लगने वाला सूर्य ग्रहण हिंदुस्तान में नहीं दिखाई देगा इसलिए सूतक काल मान्य नहीं होगा

सूतक काल 
ज्योतिष विद्या के अनुसार, सूर्य ग्रहण लगने के लगभग 12 घंटे पहले सूतक काल लग जाता है, जो ग्रहण के समाप्त होने तक रहता है इसलिए 14 अक्टूबर के दिन सुबह 8 बजकर 33 मिनट से सूतक काल प्रारम्भ हो जायेगा, जो गृहण के समाप्त होने तक रहेगा सूतक काल के दौरान पूजा-पाठ नहीं करनी चाहिए और न ही ईश्वर को स्पर्श करना चाहिए

सूर्यग्रहण के दौरान क्या न करें?
जिन जगहों पर ग्रहण दिखेगा, वहां पर 12 घण्टे पहले ही सूतक लग जाएगा सूतक काल में वृद्ध और बीमार लोगों को छोड़ कर भोजन आदि करने से बचें ग्रहण काल के दौरान गर्भवती स्त्रियों को फल, सब्जी आदि काटने एवं नुकीली वस्तु के प्रयोग से बचना होगा

सूर्य ग्रहण कहां लगेगा?
यह सूर्यग्रहण अमेरिका, मैक्सिको, ब्राजील, कोलंबिया आदि राष्ट्रों में दिखाई देगा हिंदुस्तान में कहीं भी यह ग्रहण नहीं दिखेगा भारतीय समय के मुताबिक रात्रि 08:34 बजे इस ग्रहण की आरंभ होगी यह ग्रहण 15 अक्तूबर के दिन रात्रि 02:26 बजे खत्म होगा भौगोलिक स्थिति के अनुसार, यह कंकण सूर्य ग्रहण भारतवर्ष में कहीं भी दिखाई नहीं देगा

सूर्यग्रहण के दौरान क्या करें?
ग्रहण काल में ईश्वर श्री कृष्ण जी के नाम का स्मरण करते रहें ग्रहण के पहले गर्भवती स्त्रियों एवं अन्य जीव जन्तु और वस्तुओं पर गेरू डाल दें पानी, भोजन आदि में तुसली दल डाल दें ग्रहण के बाद स्नान आदि निवृत होकर यथा शक्ति दान भी कर सकते हैं

 

Related Articles

Back to top button