लाइफ स्टाइल

जानें साल 2025 में किन राशियों पर शुरू होगी शनि की साढ़ेसाती व ढैय्या…

Shani Sade Sati and Dhaiya: ज्योतिष शास्त्र में शनिदेव को न्यायाधीश का दर्जा प्राप्त है. इन्साफ देवता शनिदेव हर जातक को उसके कर्म के मुताबिक फल प्रदान करते हैं. अच्छे कर्म करने वाले जातक को शनि शुभ फल प्रदान करते हैं और बुरे कार्यों में लिप्त लोगों को दंडित करते हैं. ज्योतिष में शनि की चाल, हालत और गोचर को भी बहुत जरूरी माना गया है. वर्ष 2024 में शनि गोचर नहीं होगा. इसके बाद वर्ष 2025 में शनि राशि बदलाव करेंगे. शनि के राशि बदलाव का सीधा-सीधा असर पांच राशियों पर पड़ता है. जानें वर्ष 2025 में किन राशियों पर प्रारम्भ होगी शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या-

शनि राशि बदलाव कब होगा: शनि 2025 में 29 मार्च को कुंभ राशि से निकलकर मीन राशि में प्रवेश करेंगे. शनि के राशि बदलाव करते ही कुछ राशियों को शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी.

2025 में किन राशियों पर प्रारम्भ होगी शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या- शनि के मीन राशि में प्रवेश करते ही मकर राशि से शनि की साढ़ेसाती का असर हट जाएगा. शनि गोचर से मेष राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती प्रारंभ होगी. शनि गोचर से कुंभ राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती का तीसरा चरण, मीन राशि पर दूसरा और मेष राशि में पहला चरण प्रारंभ होगा.

2025 में शनि गोचर से सिंह और धनु राशि वालों पर शनि ढैय्या प्रारंभ होगी. कर्क और वृश्चिक राशि के जातकों को शनि ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी.

शनिदेव के अशुभ प्रभावों से बचाव के उपाय-

शनि कृपा पाने के लिए काले कुत्ते या काली गाय को रोटी खिलाना चाहिए. शनिवार के दिन शनि यंत्र की पूजा करनी चाहिए. मान्यता है कि ऐसा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं. हनुमान जी की पूजा करने और शनि चालीसा का पाठ करने से भी शनिदेव का आशीर्वाद प्राप्त होता है.
शनिदेव को ईश्वर शिव का परम भक्त माना गया है. कहते हैं कि इस दिन शिव पूजन करने से करने शनि के अशुभ असर कम होते हैं.

 

Related Articles

Back to top button