लाइफ स्टाइल

भारत का सबसे छोटा हिल स्टेशन, जहां पर्यटक नहीं ले जा सकते अपना वाहन

मॉनसून का मौसम चल रहा है, ऐसे में आप शायद हिल स्टेशनों के बारे में सोचते भी न हों, लेकिन दिलचस्प जानकारी ले सकते हैं. तो क्या आप जानते हैं? हिंदुस्तान के असंख्य हिल स्टेशनों में से एक हिल स्टेशन ऐसा भी है, जिसे राष्ट्र के सबसे छोटे हिल स्टेशन के रूप में जाना जाता है. इतना ही नहीं, पर्यटक यहां अपने गाड़ी भी नहीं ले जा सकते.

जी हाँ, अब आप सोच रहे होंगे कि ये कौन सा हिल स्टेशन है? तो बता दें, यह खूबसूरत स्थान महाराष्ट्र राज्य में स्थित है, जिसे माथेरान के नाम से जाना जाता है. शहर और भीड़-भाड़ से दूर इस स्थान के बारे में कम ही लोग जानते हैं, जिसकी वजह से यहां काफी शांति है. यदि आप अगस्त के महीने में किसी ऑफबीट डेस्टिनेशन पर जाना चाह रहे हैं तो इससे बेहतर स्थान आपको कहीं नहीं मिलेगी. तो आइए हम आपको हिंदुस्तान के एक छोटे से हिल स्टेशन के बारे में बताते हैं.

पैनोरमा बिंदु
पैनोरमा प्वाइंट एक ऐसी स्थान है जो सनराइज प्वाइंट के नाम से भी प्रसिद्ध है, असल में यह बहुत अच्छी स्थान है. यहां से आपको प्रकृति का अनोखा सौंदर्य देखने को मिलेगा, जहां आपको शिमला और मनाली जैसे कई भीड़-भाड़ वाले हिल स्टेशन मिलेंगे, वहीं यह स्थान आपके मन और आत्मा को पूरी तरह से शांत कर देगी. आप यहां से सूर्योदय और सूर्यास्त भी देख सकते हैं, सूरज की किरणें पड़ते ही यह स्थान चमक उठती है.

इको पॉइंट

जैसा कि नाम से ही पता चलता है, जैसे ही यहां कुछ बोला जाता है, ध्वनि पूरे जगह को गूँज से भर देती है. प्रकृति के बीच खड़े होकर आप उस ध्वनि को दूर तक सुन सकते हैं. इस दिलचस्प चीज का अनुभव करने के लिए लोग इस प्वाइंट पर जरूर आते हैं. इतना ही नहीं, प्रकृति की सुंदरता के बीच पर्यावरण-गतिविधियों का आनंद आपके तनाव को दूर करेगा.

चार्लोट झील

चार्लोट झील हरियाली से घिरी एक शांत और सुंदर झील है. इस झील के आसपास प्रकृति का जो नजारा है वह आप किसी अन्य हिल स्टेशन में नहीं देख सकते. यहां आप परिवार के साथ शांतिपूर्ण पिकनिक इंकार सकते हैं, झील के आसपास इत्मीनान से सैर कर सकते हैं. इतना ही नहीं, पक्षियों की हल्की-हल्की चहचहाहट और झील का पानी आपको मंत्रमुग्ध कर देगा.

लुइसा प्वाइंट
अन्य नजारों की तरह यह भी बहुत सुन्दर स्थान है. यदि आप ऊंची चोटी से पूरी स्थान का अनुभव लेना चाहते हैं, तो यहां एक लुईसा प्वाइंट भी है जहां आप अपने दोस्तों या परिवार के साथ जा सकते हैं. यहां से सूर्यास्त का नजारा भी बहुत खास होता है, इतना ही नहीं यह स्थान फोटोग्राफी के लिए भी बेहतरीन है. हनीमून कपल्स के लिए भी यह स्थान बहुत रोमांटिक है.

माथेरान टॉय ट्रेन
आपने दार्जिलिंग या शिमला की टॉय ट्रेन के बारे में तो सुना होगा, लेकिन क्या आपने कभी माथेरान की टॉय ट्रेन के बारे में सुना है? यह ट्रेन भी पुल के ऊपर से गुजरते समय खूबसूरत नजारा पेश करने में कोई कसर नहीं छोड़ती. ट्रेन कई सुन्दर पहाड़ी और घाटी वाले इलाकों से होकर गुजरती है, यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं तो एक बार ट्रैक पर चलकर आपको इस तरह की प्रकृति भी जरूर देखनी चाहिए.

वाहन नहीं चलते

माथेरान महाराष्ट्र में पश्चिमी घाट की सह्याद्री श्रृंखला में एक छोटा सा हिल स्टेशन है, इतना ही नहीं इसे प्रदूषण मुक्त हिल स्टेशन भी बोला जाता है. आपको बता दें कि छोटा हिल स्टेशन होने के कारण इसे प्रदूषण मुक्त रखने के लिए यहां वाहनों की अनुमति नहीं है. माथेरान में दस्तूरी पॉइंट से आगे किसी भी गाड़ी को अनुमति नहीं है. पर्यटक लगभग ढाई किमी की दूरी तय करके पैदल या टट्टू द्वारा हिल स्टेशन तक पहुँच सकते हैं. आपको बता दें कि हिल स्टेशन छोटा होने के कारण यहां की सड़कें बहुत खराब हैं, जिसके कारण लोगों को यहां आराम से आना-जाना पड़ता है.

माथेरान कैसे पहुँचें?

रेल द्वारा: सबसे पहले आपको नरैल जंक्शन तक ट्रेन लेनी होगी, फिर आप माथेरान तक टॉय ट्रेन ले सकते हैं, जो लगभग 20 किमी की दूरी तय करती है.

फ्लाइट द्वारा: माथेरान तक पहुंचने के लिए कोई सीधी फ्लाइट कनेक्टिविटी नहीं है, पहले आपको छत्रपति शिवाजी तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे जाना होगा, फिर हिल स्टेशन यहां से लगभग 44 किमी दूर है.

सड़क मार्ग से: सड़क मार्ग से भी आप माथेरान तक आराम से पहुंच सकते हैं, माथेरान पड़ोसी शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है.

Related Articles

Back to top button