लाइफ स्टाइल

बायजूस कर्मचारियों को 10 मार्च तक मिलेगी फरवरी की सैलरी, फाउंडर बायजू रवींद्रन ने कहा…

नकदी के संकट से जूझ रही एडटेक कंपनी बायजूस (Byju’s) के कर्मचारियों को फरवरी की सैलरी के लिए 10 मार्च तक प्रतीक्षा करना होगा इस बात की जानकारी शनिवार को कंपनी के फाउंडर और CEO बायजू रवींद्रन ने कर्मचारियों को लिखे एक लेटर में दी है

 बायजू रवींद्रन ने कर्मचारियों से कहा, ‘हमारे 150 से अधिक निवेशकों के ग्रुप में से 4 निवेशक निचले स्तर तक गिर गए हैं इस कारण हम आपको वेतन का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं हमने सैलरी देने के लिए ही राइट्स इश्यू के जरिए फंड जुटाया था, लेकिन यह निवेशकों के साथ चल रहे कानूनी टकराव के चलते अभी एक अलग खाते में बंद है

10 मार्च तक वेतन देने का कोशिश कर रहे : बायजू रवींद्रन
रवींद्रन ने कहा, ‘यह एक दुखद वास्तविकता है कि कुछ निवेशकों ने पहले ही पर्याप्त फायदा कमा लिया है इनमें से एक ने अपने शुरुआती निवेश से 8 गुना तक अधिक फायदा कमाया है हम अभी आपको वित्तीय सहायता देने में असमर्थ हैं, जिसके आप हकदार हैं हम कोशिश कर रहे हैं कि आपके वेतन का भुगतान 10 मार्च तक कर दिया जाए

रवींद्रन ने कहा, ‘हम सैलरी तभी दे सकेंगे, जब हमें कानून के अनुसार ऐसा करने की अनुमति मिलेगी पिछले महीने कंपनी को फंड की कमी के कारण चुनौतियों का सामना करना पड़ा था, और अब हम फंड होने के बावजूद देरी का सामना कर रहे हैं

निवेशकों ने ₹1,657 करोड़ के राइट्स इश्यू पर रोक लगाने की मांग की
बायजूस के निवेशकों प्रोसस एनवी, पीक एक्सवी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिक और सोफिना एसए ने 225 मिलियन $ के पोस्ट-मनी वैल्यूएशन पर 200 मिलियन $ यानी करीब 1,657 करोड़ रुपए जुटाने के कंपनी के निर्णय का विरोध किया है, जो कि कंपनी के पिछले फंडिंग राउंड से 99% कम है पिछला फंडिंग राउंड 22 बिलियन $ यानी करीब 1.82 लाख करोड़ रुपए के वैल्यूएशन पर हुआ था

बायजू के निवेशकों का इल्जाम है कि कंपनी ने अमेरिका में एक अस्पष्ट हेज फंड में 533 मिलियन अमेरिकी $ यानी करीब 4,416 करोड़ रुपए की हेराफेरी की और 1,657 करोड़ रुपए के राइट्स इश्यू पर रोक लगाने की मांग की इसे गैरकानूनी और कानून के उल्टा बताया

रवींद्रन ने सैलरी देने के लिए गिरवी रखा घर
बायजूस के फाउंडर बायजू रवींद्रन ने एम्प्लॉइज को सैलरी देने के लिए अपने घर के साथ-साथ अपने फैमिली मेंबर्स का घर भी गिरवी रख चुके हैं बेंगलुरु के दो घरों को गिरवी रखकर उन्होंने करीब 100 करोड़ रुपए जुटाए और करीब 15,000 एम्प्लॉइज को सैलरी दी थी

बायजूस के इन्वेस्टर्स ने रवींद्रन को बोर्ड से बाहर किया
वहीं, 23 फरवरी को बायजूस के इन्वेस्टर्स ने एक्स्ट्राऑर्डिनरी जनरल मीटिंग (EGM) के बाद कंपनी के फाउंडर-CEO बायजू रवींद्रन, उनकी पत्नी दिव्या गोकुलनाथ और भाई रिजु रवींद्रन को बोर्ड से हटा दिया था
प्रोसस, जनरल अटलांटिक और पीक एक्सवी जैसे कई ब्लू चिप इन्वेस्टर्स ने EGM में रवींद्रन और उनकी फैमिली को हटाने के लिए वोट किया था लगभग 60% शेयरहोल्डिंग वाले निवेशकों ने कंपनी में लीडरशिप और गवर्नेंस में परिवर्तन के प्रस्तावों को पारित करने के पक्ष में वोट किया था

कंपनी में रवींद्रन और उनकी फैमिली की लगभग 26% हिस्सेदारी
रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन्वेस्टर्स ने रवींद्रन की लीडरशिप वाले मैनेजमेंट के ​​​मिसमैनेजमेंट और फेल्योर्स की वजह से यह निर्णय किया जिन शेयरहोल्डर्स ने EGM बुलाई थी, उनके पास बायजूस में टोटल 30% से अधिक की हिस्सेदारी है कंपनी में रवींद्रन और उनकी फैमिली की लगभग 26% हिस्सेदारी है

EGM में निवेशकों ने लीडरशिप में सुधार करने, बोर्ड को रिकंस्टीट्यूट करने और एडमिनिस्ट्रेशन से जुड़े उल्लंघनों की फोरेंसिक जांच प्रारम्भ करने के लिए भी प्रस्ताव पारित किए थे

रविंद्रन ने कहा- मैं बायजूस का CEO बना रहूंगा
इसके बाद 24 फरवरी को बायजू रवींद्रन ने कर्मचारियों को लिखे लेटर में बोला था कि ‘मैं आपको यह लेटर हमारी कंपनी के CEO के रूप में लिख रहा हूं आपने मीडिया में जो भी पढ़ा होगा, वह गलत है मैं कंपनी का CEO बना रहूंगा, मैनेजमेंट और बोर्ड भी वही रहेगा

रवींद्रन ने आगे कहा, ‘सेलेक्टेड माइनॉरिटी इन्वेस्टर्स के एक छोटे ग्रुप के किए गए दावे कि उन्होंने सर्वसहमति से EGM में प्रस्ताव पारित किया है, पूरी तरह से गलत है 170 शेयरहोल्डर्स में से सिर्फ़ 35 यानी लगभग 45% शेयरहोल्डर्स ने प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया यह अपने आप में ही है इस इर्रेलेवेंट मीटिंग को प्राप्त बहुत ही लिमिटेड सपोर्ट को दर्शाता है

बायजू रवींद्रन ने कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश का भी हवाला दिया और बोला कि मीटिंग के दौरान लिया गया कोई भी निर्णय 13 मार्च को होने वाली अगली सुनवाई तक कारगर नहीं होगा

3 बड़ी चीजें जो बायजूस के साथ बीते दिनों हुई

  • भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने बायजूस के विरुद्ध दिवालिया कार्रवाई प्रारम्भ की बायजूस पर ₹158 करोड़ के पेमेंट में चूक का इल्जाम है
  • ED ने 9,000 करोड़ से अधिक के FEMA उल्लंघन मुद्दे में नोटिस भेजा फॉरेन करेंसी फ्लो को लेकर 1999 में FEMA बना था
  • गुरुग्राम ऑफिस का रेंट पेमेंट न करने पर कर्मचारियों को प्रॉपर्टी मालिक ने बाहर कर दिया उनके लैपटॉप बरामद कर लिए

बायजूस का 2022 में घाटा बढ़कर 8,245 करोड़ रहा
एड-टेक कंपनी बायजूस को वित्त साल 2022 में ₹8,245 करोड़ का घाटा हुआ है वित्त साल 2021 में घाटा 4,564 करोड़ रुपए था यानी कंपनी का घाटा करीब-करीब दोगुना हो गया है इस दौरान कंपनी का टोटल रेवेन्यू ₹5,298 करोड़ रहा 2021 में रेवेन्यू 2,428 करोड़ रुपए था यानी रेवेन्यू में 118% का उछाल आया है

बायजूस की पैरेंट कंपनी थिंक एंड लर्न ने कंपनी रजिस्ट्रार के पास अपनी ऑडिटेड फाइनेंशियल रिपोर्ट दाखिल की है घाटे का लगभग आधा हिस्सा (लगभग 3,800 करोड़ रुपए) व्हाइटहैट जूनियर और ओस्मो जैसी कंपनियों के कारण है कंपनी की ओर से किए गए ये दो प्रमुख अधिग्रहण हैं

Related Articles

Back to top button