लाइफ स्टाइल

 ज्योतिषियों के मुताबिक दशहरा पर बन रहे वृद्धि योग समेत तीन विशेष योग

विजयदशमी 2023: हर वर्ष असो मास के शुक्त पक्ष इकाई से लेकर नोमनी तिथि तक नवरात्रि मनाई जाती है जिसे माताजी का नोरटा बोला जाता है जिसके बाद दशम तिथि के दसवें दिन दशहरा या विजयादशमी मनाई जाती है

अंग्रेजी कंदार के मुताबिक इस साल शारदीय नवरात्रि 15 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक है ऐसे समय में विजयादशमी यानी दशहरा 24 अक्टूबर को मनाया जाएगा ज्योतिषियों के अनुसार दशहरा पर वृद्धि योग समेत तीन विशेष योग बन रहे हैं

शुभ समय – पंचांग के मुताबिक दशहरा की तिथि 23 अक्टूबर को शाम 05:44 बजे प्रारम्भ होगी और 24 अक्टूबर को दोपहर 03:14 बजे खत्म होगी

विजय मुहूर्त- दशहरा के दिन विजय मुहूर्त दोपहर 01:58 बजे से 02:43 बजे तक है

पूजा का शुभ समय- दशहरा के दिन पूजा का समय दोपहर 01:13 बजे से 03:18 बजे तक है पूजा की अवधि 2 घंटे 15 मिनट है

वृत्ति योग- दशहरा के दिन वृत्ति योग बन रहा है इस दिन दोपहर 03:40 बजे वृथिया योग बन रहा है, जो अगले दिन यानी 25 अक्टूबर को दोपहर 12:14 बजे तक रहेगा व्रती योग शुभ कार्यों के लिए सर्वोत्तम माना जाता है

रवि योग- दशहरे पर रवि योग बन रहा है इस योग का निर्माण सुबह 06:27 बजे प्रारम्भ होकर दोपहर 03:28 बजे तक रहेगा इसके बाद शाम 06:38 बजे से है, जो कि रात है

करण योग- दशहरा तिथि पर दोपहर 03 बजकर 14 मिनट तक गर करण का निर्माण हो रहा है इसके बाद यह योग पूरी रात तक रहेगा वनज और गर करण योग शुभ कार्यों के लिए सर्वोत्तम माने गए हैं

सूर्योदय और सूर्यास्त का समय

  • सूर्योदय – प्रातः 06:27 बजे
  • सूर्यास्त- 05:43 बजे

पंचांग

  • ब्रह्म मुहूर्त- 04:45 से 05:36 तक
  • अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11:43 बजे से दोपहर 12:28 बजे तक
  • गोधूलि बेला – शाम 05:43 बजे से शाम 06:09 बजे तक
  • निशिता मुहूर्त- 11:40 पीएम से 12:31 पीएम तक

अशुभ समय

  • राहुकाल – 02:41 पीएम से 04:19 पीएम तक
  • गुलिक काल – दोपहर 12:05 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
  • दिशा शूल – उत्तर

Related Articles

Back to top button