लाइफ स्टाइल

महाराज से जानें किन गलतियों की वजह से खंडित होता है व्रत…

Premanand Ji Maharaj: हिंदू धर्म में व्रत का बहुत महत्व है. माना जाता है कि व्रत रखने से देवी-देवता प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों को मनचाहा आशीर्वाद देते हैं. इसके अतिरिक्त उनके जीवन में आ रही परेशानियां भी धीरे-धीरे कम होने लगती हैं. लेकिन जो लोग व्रत रखते हैं, उन्हें कुछ नियमों का पालन जरूर करना चाहिए, नहीं तो उनका व्रत खंडित भी हो सकता है. आज हम आपको प्रेमानंद महाराज द्वारा बताई गई आदमी की उन 5 गलतियों के बारे में बताएंगे, जो यदि वो व्रत के दौरान करते हैं, तो उनका व्रत खंडित भी हो सकता है. जब आदमी का व्रत खंडित होता है, तो उसे न तो व्रत का फल मिलता है और न ही उसकी पूजा को पूर्ण माना जाता है.

प्रेमानंद महाराज एक कृष्ण मार्गी संत हैं, जो अपने प्रवचन के माध्यम से लोगों को हिंदू धर्म के इतिहास, नियम और तरीकों के बारे में बताते हैं. सोशल मीडिया पर आए दिन प्रेमानंद महाराज के प्रवचन के वीडियो वायरल होते रहते हैं. अपने प्रवचन के दौरान उन्होंने आदमी की उन पांच गलतियां के बारे में भी कहा है, जिसकी वजह से उनका व्रत खंडित हो सकता है. आइए विस्तार से जानते हैं उन गलतियों के बारे में.

सोना

प्रेमानंद महाराज बताते हैं कि जो लोग व्रत के दौरान दोपहर में सोते हैं. उनका व्रत खंडित हो सकता है.

बार-बार शौच जाना

प्रेमानंद महाराज ने अपने प्रवचन के दौरान कहा है कि जो लोग व्रत रखते हैं, उन्हें बार-बार शौच नहीं जाना चाहिए. दरअसल वॉशरूम को गलत माना जाता है और यदि आदमी व्रत वाले दिन बार-बार बाथरूम जाता है, तो इससे उसका व्रत खंडित भी हो सकता है.

बार-बार खाना खाना

प्रेमानंद महाराज बताते हैं कि व्रत के दौरान आदमी को बार-बार मुंह नहीं चलाना चाहिए. दरअसल, कुछ व्रत ऐसे भी होते हैं, जिनमें फल, आलू और कुट्टू के आटे से बनी चीजों को खाने की मनाही नहीं होती है. लेकिन इससे ये नहीं है कि आप पूरे दिन ही उन्हें खाते रहें. इससे व्रत खंडित हो सकता है.

झूठ बोलना

प्रेमानंद महाराज का बोलना है कि व्रत के दौरान आदमी को असत्य नहीं कहना चाहिए. इसके अतिरिक्त गलत भाषा का भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. इससे व्रत खंडित हो सकता है

संबंध

प्रेमानंद महाराज बताते हैं कि यदि आपने व्रत रखा है, तो आपको गलती से भी अपने पार्टनर के साथ संबंध नहीं बनाने चाहिए, नहीं तो इससे व्रत खंडित हो सकता है.

 

Related Articles

Back to top button