लाइफ स्टाइल

इस मंदिर में जाकर करे ये उपाय, मंगल दोष से मिलेगा छुटकारा

 

देशभर में कई करोड़ों मंदिर हैं जो कि चमत्कारों के लिये प्रसिद्द हैं. इस मंदिरों पर करोड़ों लोगों की श्रद्धा और आस्था जुड़ी है. इन्हीं मंदिरों में से एक मंदिर उज्जैन में है जो की मंगलनाथ के नाम से प्रसिद्द है. इस मंदिर में मंगल गुनाह का निवारण होता है.

इस मंदिर में मंगल गुनाह के लिये विधि-विधान से पूजा की जाती है. जिन लोगों की कुंडली में मंगल गुनाह होता है और मंगल दोषों के कारण उन्हें अपने करियर, शादी-विवाह में परेशानियां होती है वे लोग इस मंदिर में जाकर मंगल शांति के लिये पूजा-पाठ करवाते हैं. आइए मंदिर से जुड़ी मान्यताओं के बारे में जानते हैं…

सालभर आते हैं सैकड़ो श्रद्धालु

महाकाल की नगरी उज्जैन में स्थित मंगलनाथ का मंदिर बहुत मशहूर मंदिर है. मान्यताओं के अनुसार, इस मंदिर में मांगलिक गुनाह निवारण के लिये कुंडली में तेज मंगल के लिये या फिर मंगल की कुंडली में खराब स्थिति के लिये पूजा-पाठ करवाई जाती है. इस मंदिर में ना सिर्फ़ राष्ट्र बल्कि विदेशों से भी लोग दर्शन और पूजा के लिये आते हैं. यहां सालभर करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं. इसके अतिरिक्त धार्मिक मान्यताओं की मानें तो उज्जैन नगरी को मंगल की नगरी बोला जाता है. इसलिए भी यहां पीड़ित लोग मंगल गुनाह निवारण के लिये आते हैं.

मंगल गुनाह के कारण उठानी पड़ती है ये समस्याएं

मंगल गुनाह के कारण आदमी को वैवाहिक जीवन में परेशानियां आती है. शादी में देरी और तेज गुस्से जैसी परेशानियां होती है. मंगल गुनाह मंगल ग्रह की खराब स्थिति के कारण उत्पन्न होता है. यदि किसी की कुंडली में लग्न भाव, चौथे भाव, सातवें भाव, आठवें रेट या फिर बारह्वें रेट में मंगल होतो मंगल गुनाह उत्पन्न होता है. जातक को कड़ी परेशानियों को झेलना पड़ता है.

ज्योतिष शास्त्र में मंगल गुनाह के उपाय

मंगल ग्रह को क्रूर ग्रह माना जाता है. ज्योतिषशास्त्र में मंगल ग्रह की शांति के तरीका करने से कुंडली में मंगल गुनाह खत्म होता है. मंगल ग्रह की शांति के तरीका करने से मंगल गुनाह का असर भी कम हो जाता है. हनुमान जी की आराधना, बजरंग बाण, हनुमान चालीसा आदि के जाप और अन्य प्रकार के तरीका से मंगल गुनाह के असर समाप्त हो जाते हैं. यदि किसी आदमी की कुंडली में मंगल गुनाह है तो उसे उज्जैन के मंगल नाथ मंदिर में जरुर जाना चाहिए. इसके साथ ही मंगल नाथ के दर्शन और पूजा-पाठ करने से मंगल गुनाह से छुटकारा भी मिलता है.

Related Articles

Back to top button