लेटैस्ट न्यूज़

हाई टैक्स ब्रैकेट वालों को इसके ब्याज पर देना होगा ज्यादा टैक्स

यदि आपने अब तक टैक्स प्लानिंग प्रारम्भ नहीं की है तो अभी इसकी आरंभ कर दीजिए वजह साफ है, वित्त साल 2023-24 के लिए टैक्स बचाने वाले निवेश की अंतिम तारीख 31 मार्च अब 6 महीने से भी कम दूर है रिस्क लेने से बचने वाले ऐसे करदाता, जो कम टैक्स ब्रैकेट में आते हैं, वे टैक्स-सेविंग FD पर विचार कर सकते हैं

 

असल में पिछले वित्त साल से अब तक रिजर्व बैंक ने रेपो दर 6 बार बढ़ाकर 6.50% कर दी है इसके चलते टैक्स-सेविंग FD पर ब्याज दरें 7% से ऊपर निकल गई हैं यहां हम आपको टैक्स-सेविंग FD के बारे में बता रहे हैं

सबसे पहले समझें टैक्स सेविंग FD क्या है?
5 वर्ष वाली FD को टैक्स सेविंग FD बोला जाता है इसमें निवेश पर आयकर एक्ट के सेक्शन 80C के अनुसार 1.5 लाख रुपए तक के निवेश पर टैक्स की छूट ली जा सकती है सरल भाषा में इसे ऐसे समझें, आप सेक्शन 80C के माध्यम से अपनी कुल टैक्सेबल इनकम में से 1.5 लाख रुपए पर टैक्स बचा सकते हैं हालांकि इससे मिलने वाले ब्याज यानी रिटर्न पर आपको अपने टैक्स ब्रैकेट के हिसाब से टैक्स चुकाना होता है सभी बैंक टैक्स सेविंग FD ऑफर करते हैं

   

सीनियर सिटीजन को मिलता है अधिक ब्याज
बैंक सीनियर सिटीजन को FD पर अधिक ब्याज देते हैं ये आम FD से 0.50% अधिक होता है इसलिए यदि आप या आपके परिवार में कोई सीनियर सिटीजन है, तो उसे FD में निवेश करने पर अतिरिक्त लाभ मिलेगा

टैक्स सेविंग FD से मिलने वाला ब्याज भी टैक्स फ्री नहीं होता है ऐसे में यदि आप हाई टैक्स ब्रैकेट में आते हैं तो आपको FD से मिलने वाले रिटर्न पर 30% टैक्स चुकाना होगा ऐसे में इससे मिलने वाला रिटर्न और कम हो जाता है ऐसे में हाई टैक्स ब्रैकेट वालों के लिए इससे बेहतर अन्य ऑप्शन हो सकते हैं

 

Related Articles

Back to top button