लेटैस्ट न्यूज़

एनआईए ने इंडिया से जुड़े संगठनों के ठिकानों पर की छापेमारी

NIA Raid in UP: यूपी सहित राष्ट्र के कई राज्यों में एनआईए (NIA) ने बुधवार को प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इण्डिया (PFI) से जुड़े अन्य संगठनों के ठिकानों पर छापेमारी की ये छापेमारी राजधानी लखनऊ सहित सीतापुर, बहराइच, हरदोई और बाराबंकी जनपद में की गई एनआईए की टीम पैरा मिलिट्री फोर्स और स्त्री पुलिस कर्मियों के साथ इन संगठनों के ठिकाने पर पहुंची और छापेमारी की एक साथ हुई छापेमारी से हड़कंप मच गया एनआईए की टीम अचानक छापेमारी के लिए पहुंची और पीएफआई से जुड़े संगठनों के लोगों को इसकी भनक तक नहीं लगी जानकारी के अनुसार राजधानी लखनऊ में मदेगंज के बड़ी पकरिया क्षेत्र में एक ही मोहल्ले के तीन घरों में एनआईए ने छापेमारी की इस दौरान वहां रहने वाले लोगों से पूछताछ की गई एनआईए की टीम ने पीएफआई और उससे संबंधित संगठनों को लेकर गहन जांच पड़ताचल की और डॉक्यूमेंट्स खंगाले इस दौरान पूरे क्षेत्र में सुरक्षा के कड़े व्यवस्था किए गए पूरे क्षेत्र को सुरक्षाकर्मियों ने घेर लिया आसपास बड़ी संख्या में पैरा मिलिट्री फोर्स और पुलिसकर्मी तैनात रहे

आसपास के लोगों को नहीं लगी भनक

पुराने लखनऊ में एनआईए की टीम के सदस्य कई गाड़ियों में पहुंचे और जब तक आसपास के लोगों को इसकी भनक लगती तब तक टीम के सदस्य पीएफआई से संबंधित संगठनों से जुड़े लोगों के घर में प्रवेश कर चुके थे और सुरक्षाकर्मियों ने आसपास के क्षेत्र को घेर लिया इसके अतिरिक्त बाराबंकी, बहराइच, सीतापुर और हरदोई में भी इसी तरह गहन छापेमारी की गई और लोगों से कई प्रश्न पूछे गए

इन लोगों के वहां की गई छापेमारी

कहा जा रहा है कि सीतापुर जनपद की महमूदाबाद तहसील में एनआईए ने बुधवार को छापेमारी में प्रश्नों की झड़ी लगा दी की है एनआईए के अधिकारी पीएफआई से जुड़े नेटवर्क की कड़ियां खंगालने में जुटे हैं लखनऊ में खदरा में डाक्टर ख्वाजा, मास्टर शमीम और मौलाना जमील के घर पर पहुंचकर छापेमारी की गई इन सभी को हिरासत में ले लिया गया है और मदेयगंज पुलिस स्टेशन में ले जाकर पूछताछ की गई

काफी समय से राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में एक्टिव होने का आरोप

कहा जा रहा है कि बुधवार को जिन ठिकानों पर छापे मारे गए, वे पीएफआई पर प्रतिबंध लगने के बावजूद युवाओं को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए जुटा रहे थे लखनऊ के अतिरिक्त बाराबंकी और बहराइच में पीएफआई के एक्टिव सदस्यों को एनआईए और एटीएस पहले भी अरैस्ट कर चुकी है इसके अतिरिक्त अन्य जगहों से भी कई गिरफ्तारी की गई हैं कहा जा रहा कि इनमें कई अहम इनपुट मिले, जिसके आधार एनआईए ने बुधवार को छापेमारी की पीएफआई का प्रदेश अध्यक्ष और दिल्ली दंगों में संलिप्त पाये गए सदस्य शामिल हैं एनआईए समेत अनेक जांच एजेंसियां अब पीएफआई के सहयोगी संगठनों जैसे सीएफआई, स्त्री विंग और राजनीतिक चेहरे एसडीपीआई की गतिविधियों पर पैनी नजर रखे हैं कहा जा रहा कि आगे भी इस तरह की रेड जारी रह सकती है

Related Articles

Back to top button