लेटैस्ट न्यूज़

नरदेव कंवर : प्राकृतिक आपदा प्रभावितों के लिए मसीहा बनकर उभरे हैं मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू

ज्वालामुखी कांग्रेस पार्टी मत्स्य पालन विभाग के चेयरमैन नरदेव कंवर ने बोला है कि सीएम ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू प्राकृतिक आपदा प्रभावितों के लिए देवदुत बनकर उभरे हैं केंद्र गवर्नमेंट के राहत पैकेज जारी न करने के बावजूद सीएम ने 4500 करोड़ रुपये का स्टेट पैकेज घोषित कर प्रभावितों के जख्मों पर मरहम लगाने का काम किया है आपदा आपने के बाद से ही सुखविंदर सिंह ने परिवार के मुखिया की किरदार भली–भाँति निभाई है

कंवर ने बोला कि प्रदेश की कमजोर वित्तीय स्थिति के बावजूद सीएम ने दृढ़ इच्छाशक्ति का परिचय देते हुए आपदा प्रभावितों के सरकारी खजाने का मुंह खोल दिया है प्रदेश के इतिहास में इतनी बड़ी त्रासदी पहली बार आई है, जिससे निपटने के लिए सीएम ने भी बहुत बड़ा दिल और अदम्य साहस दिखाया है सियासी रोटियां सेंकने का ही काम किया

मुख्यमंत्री सुक्खू जनता के लिए दिनरात काम कर रहे हैं सीएम ने पूरी तरह से क्षतिग्रस्त घर के लिए मिलने वाले एक लाख 30 हजार रुपये के मुआवजे को साढ़े पांच गुणा बढ़ाकर 7 लाख रुपये कर दिया गया है राज्य में आपदा के कारण 3500 घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए हैं इसके अतिरिक्त कच्चे घर को आंशिक हानि पर प्रदत 4000 रुपये मुआवजे को 25 गुणा बढ़ाकर एक लाख रुपये जबकि पक्के घर को आंशिक हानि पर मिलने वाली 6500 रुपये की रकम को साढ़े 15 गुणा बढ़ाकर एक लाख रुपये किया गया है

दुकान या ढाबे को हानि होने पर मिलने वाले 25000 रुपये के मुआवजे को चार गुणा बढ़ाकर एक लाख रुपये किया गया है इसके साथ ही गौशाला को हानि पर 3000 रुपये के जगह पर राज्य गवर्नमेंट 50 हजार रुपये आर्थिक सहायता प्रदान करेगी किरायेदार दुकानदार के सामान को हानि होने पर मिलने वाले 2500 रुपये के मुआवजे में 20 गुणा वृद्धि करते हुए राज्य गवर्नमेंट उन्हें 50 हजार रुपये की सहायता देगी उन्होंने कहा कि ऐसे प्रभावितों की संख्या 1909 है

कंवर ने बोला कि मॉनसून सीजन में 96 गाय और भैंसों, 16 घोड़े और गधों तथा 6 बछड़ों की मौत हुई है जिनके लिए गवर्नमेंट ने सहायता राशि बढ़ाकर 55 हजार रुपये की है पहले इनके लिए क्रमशः 37500 रुपये, 34000 रुपये और 20000 रुपये मिलते थे भेड़ या बकरी की मौत पर मिलने वाले 4000 रुपये मुआवजे को भी बढ़ाकर 6000 रुपये कर दिया गया है

 

Related Articles

Back to top button