लेटैस्ट न्यूज़

चार धाम दर्शन करने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए जरूरी सुचना, चारधाम रजिस्ट्रेशन नहीं करने पर…

बदरीनाथ-केदारनाथ, गंगोत्री चारों धामों के दर्शन करने का प्लान बना रहे हैं तो यह अपडेट आपके लिए है. तीर्थ यात्रियों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि चारधाम यात्रा प्रारम्भ करने से पहले वह अपना पंजीकरण अवश्य करवा लें.

चारधाम रजिस्ट्रेशन नहीं करने पर तीर्थ यात्रियों को चारधाम जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी. चारधाम यात्रा रजिस्ट्रेशन औनलाइन प्रारम्भ हो गया है. आपको बता दें कि रजिस्ट्रेशन को लेकर ने कठोरता की हुई है. पर्यटन विभाग ने चारधाम यात्रा पंजीकरण को लेकर रविवार को पोर्टल खोल दिया है.

यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने का समय तय होते ही पर्यटन विभाग ने अपनी पंजीकरण की वेबसाइट को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया है. चारों धामों समेत श्री हेमकुंड साहिब यात्रा के लिए श्रद्धालु पंजीकरण करा सकेंगे.

श्री बदरीनाथ, श्री केदारनाथ और श्री हेमकुंड साहिब के कपाट खुलने का समय पहले तय हो गया था. इसके बाद नौ अप्रैल को गंगोत्री धाम के कपाट खुलने का समय तय हुआ. 14 अप्रैल को यमुना जंयती पर यमुनोत्री धाम के कपाट खोलने का समय तय किया गया.

समय तय होते ही पर्यटन विभाग ने अपने तय कार्यक्रम के मुताबिक पर्यटन विभाग की वेबसाइट को श्रद्धालुओं के पंजीकरण के लिए खोल दिया. चार धाम यात्रा को व्यवस्थित करने और आने वाले श्रद्धालुओं का परफेक्ट आंकड़ा जुटाने को पंजीकरण की प्रबंध की गई है.

ऐसे कराएं चारधाम रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन 
यात्रा पंजीकरण को लेकर वेबसाइट में कोई परेशानी न आए, हैंग होने और वेबसाइट क्रैश होने की स्थिति न पैदा हो, इसके लिए वेबसाइट को लगातार अपडेट भी किया गया. श्रद्धालु पर्यटन विभाग की वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण कर सकेंगे. इसके अतिरिक्त श्रद्धालु मोबाइल ऐप और व्हाट्सअप नंबर से भी पंजीकरण करा सकेंगे.

पिछले वर्ष पहुंचे थे 54.82 लाख श्रद्धालु
चार धाम यात्रा में पिछले वर्ष 2023 में कुल 54.82 लाख श्रद्धालु पहुंचे थे. सबसे अधिक 19.28 लाख श्रद्धालु केदारनाथ धाम पहुंचे थे. बदरीनाथ धाम में 17.46 लाख श्रद्धालुओं ने दर्शन किए थे. गंगोत्री धाम में 8.98 लाख, यमुनोत्री 7.31 लाख श्रद्धालु दर्शन को पहुंचे थे. श्री हेमकुंड साहिब में 1.77 लाख श्रद्धालु ने दर्शन किए.

धामों के खुलने की तारीख
श्री केदारनाथ धाम — 10 मई
श्री बदरीनाथ धाम — 12 मई
श्री गंगोत्री धाम — 10 मई
श्री यमुनोत्री धाम — 10 मई
श्री हेमकुंड साहिब धाम — 25 मई

10 मई को अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर खुलेंगे यमुनोत्री धाम के कपाट
विश्व मशहूर यमुनोत्री धाम के कपाट इस बार अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर शुक्रवार 10 मई को सुबह 10 बजकर 29 मिनट पर वैदिक मंत्रोच्चार के साथ देश-विदेश के श्रद्धालुओं के लिए दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे. जिसके बाद श्रद्धालु ग्रीष्म काल में 6 माह तक मां यमुना के दर्शन यमुनोत्री धाम में कर सकेंगे.

रविवार को यमुना जयंती के पावन पर्व पर मां यमुना के शीतकालीन प्रवास खुशीमठ (खरसाली) यमुना मंदिर में श्री यमुनोत्री मंदिर समिति एवं तीर्थ पुरोहित महासभा द्वारा यमुनोत्री धाम के कपाट खोलने का शुभ मुहूर्त तय किया गया.

पंचांग गणना के मुताबिक तय किए गए मुहूर्त की घोषणा करते हुए यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश उनियाल ने कहा है कि यमुनोत्री धाम के कपाट वैशाख शुक्ल अक्षय तृतीया के पर्व पर शुक्रवार 10 मई 2024 को रोहिणी नक्षत्र कर्क लग्न की पावन बेला पर पूर्वाह्न 10 बजकर 29 मिनट पर वकायदा पूजा अर्चना के बाद मां यमुना के कपाट दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे.

इसी दिन प्रातः 6 बजकर 29 मिनट पर मां यमुना की उत्सव डोली शनिदेव महाराज की डोली की प्रतिनिधित्व में शीतकालीन प्रवास खुशीमठ से यमुनोत्री धाम के लिए प्रस्थान करेगी. इसके बाद यमुनोत्री धाम पहुंचकर विद्वत हवन पूजा अर्चना के साथ कपाट खोले जाएंगे.

विधिवत यमुनोत्री धाम की यात्रा भी प्रारंभ हो जाएगी. कपाट खुलने के बाद ग्रीष्मकल में 6 माह तक मां यमुना के दर्शन यमुनोत्री धाम में होंगे, इसके 6 महीने बाद भैया दूज को यमुनोत्री धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे.

चार धाम यात्रा को लेकर तैयारियां तेजी से पूरी की जा रही हैं. यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं के लिए पंजीकरण के लिए वेबसाइट खोल दी गई है. अब श्रद्धालु पंजीकरण करा सकते हैं.

Related Articles

Back to top button