झारखण्ड

जानें देवघर के बाबा बैद्यनाथ मंदिर के तीर्थपुरोहित से कि महाशिवरात्रि के दिन क्या होनी चाहिए पूजा विधि…

देवघर महाशिवरात्रि के दिन ईश्वर भोलेनाथ को सबसे प्रिय दिन में से एक है इसी दिन ईश्वर भोलेनाथ और माता पार्वती का शादी भी संपन्न हुआ थाइस वर्ष महाशिवरात्रि का व्रत 08मार्च को रखा जाएगा माना जाता है कि जो भी ईश्वर भोलेनाथ की महाशिवरात्रि के दिन व्रत रखकर विधिपूर्वक पूजा आराधना करता है उसकी मनोकामनाएं ईश्वर भोलेनाथ अवश्य पूर्ण करते हैं

अन्य दिन की तुलना में महाशिवरात्रि के दिन ईश्वर भोलेनाथ की पूजा विधि पूर्वक करना चाहिएइससे भक्त की सभी तरह के कष्ट दूर हो जाते हैं तो आईये देवघर के बाबा बैद्यनाथ मंदिर के तीर्थपुरोहित से जानते हैं कि महाशिवरात्रि के दिन पुजा विधि क्या होनी चाहिए?

क्या कहते हैं देवघर के तीर्थपुरोहित
देवघर के बाबा बैजनाथ मंदिर के तीर्थ पुरोहित प्रमोद श्रृंगारी ने मीडिया के संवाददाता से वार्ता करते हुए बोला कि महाशिवरात्रि के दिन तीन चीज प्रमुख होती है पहला व्रत दूसरा पूजा और तीसरा जागरणइसके साथ ही महाशिवरात्रि के दिन ईश्वर शिव के शिवलिंग की पूजा करना जरूरी माना जाता है इससे ईश्वर शिव अति प्रसन्न होते हैं और भक्त द्वारा मांगी गई मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं वहीं महाशिवरात्रि मे ईश्वर शिव की पूजा तीन प्रकार के पूजा विधि से करनी चाहिए एक पंचोपचार जिसमे गंध,पुष्प, धूप, दीप और नेवेदया दूसरा षोडशोपचार जिसमे आवाहन,आसन,पाध,अर्घ्य,आचमन, स्नान,वस्त्र,यज्ञपवित्र,आभूषण,गंध,पुष्प, धूप, दीप और नेवेदया, तर्पण और नमस्ते तीसरा विधि रजौपचार होता है जिसमे ईश्वर शिव को एक राजा की तरह सजा धाजा कर पुजा आराधना की जाती है

बाबा बैद्यनाथ मंदिर मे तीर्थपुरोहित इस तरह करते है पुजा
महाशिवरात्रि के दिन सभी श्रद्धालु व्रत रखकर ईश्वर शिव की पूजा आराधना करते हैं इस दिन बाबा बैद्यनाथ की पूजा देवघर तीर्थपुरोहित लोग चार प्रहर में करते हैं इसके साथ ही महाशिवरात्रि के दिन बैद्यनाथ मंदिर में पंचशुल,पगड़ी और ध्वजा चढ़ाने का विधान है भाई महाशिवरात्रि के दिन देवघर के तीर्थपुरोहित षोडशोपचार विधि और रुद्राभिषेक कर ईश्वर भोलेनाथ की पुजा आराधना करते हैं

16 चरणों में
आवाहन,आसन,पाध,अर्घ्य,आचमन,स्नान,वस्त्र,यज्ञपवित्र,आभूषण,गंध,पुष्प, धूप, दीप और नेवेदया, तर्पण और नमस्ते किया जाता हैइससे कामना पूजा भी कहते है इससे ईश्वर भोलेनाथ भक्त की इच्छा पूर्ण करते है यदि भक्त महाशिवरात्रि के दिन रुद्राभिषेक करता है तो भक्त के रोग,दोष,कष्ट सभी तरह की परेशानी खत्म हो जाती है

 

Related Articles

Back to top button