जज मृत्यु मामला: उच्च न्यायालय ने सीबीआई से कहा- एक ही बात न दोहराएं, अगली सुनवाई में विस्तृत रिपोर्ट सौंपे

जज मृत्यु मामला: उच्च न्यायालय ने सीबीआई से कहा- एक ही बात न दोहराएं, अगली सुनवाई में विस्तृत रिपोर्ट सौंपे

रांची  झारखंड हाईकोर्ट में जज उत्तम आनंद मृत्यु मुद्दे (Judge Uttam Anand Death Case) की सुनवाई हुई इस दौरान CBI ने अबतक की जाँच रिपोर्ट पेश की न्यायालय ने CBI की रिपोर्ट पर बोला कि इसमें कुछ भी स्पष्ट नहीं है अगली सुनवाई में CBI को स्पेसिफिक रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया अगली सुनवाई 21 अक्टूबर को होगी

सुनवाई के दौरान CBI के अधिवक्ता ने न्यायालय को जानकारी दी कि अरैस्ट दो आरोपियों से पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली हैं सीबीआई ने न्यायालय में बताया है कि इस मुद्दे में कुछ और लोगों की संलिप्त होने की आंशका है ऐसे लोगों से पूछताछ की जा रही है कुछ लोगों का इस घटना से जुड़े होने की संभावना है, लेकिन अभी कुछ भी बोलना जल्दबाजी होगी

कोर्ट ने बोला कि पिछली बार भी CBI ने बोला था कि इस मुद्दे में कुछ सुराग मिले हैं और पूछताछ हो रही है इस बार भी वही बात दोहराई जा रही है न्यायालय ने इस मुद्दे में अगली सुनवाई के दौरान CBI और एसआईटी को विस्तृत रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है

इससे पहले इस मुद्दे में 30 सितंबर को सुनवाई हुई थी तब CBI की ओर से उच्च न्यायालय को बताया गया था कि जज उत्तम की मृत्यु के मुद्दे में कुछ सुराग मिले हैं उस दिशा में जाँच प्रारम्भ कर दी गई है हर बिंदुओं पर जाँच की जा रही है

बता दें कि जज मृत्यु मुद्दे में CBI की टीम लगातार दूसरे दिन रांची में सबूत तलाशने की प्रयास की CBI की टीम लगातार दूसरे दिन रांची के खेलगांव स्थित होटवार कारागार पहुंची और रंजय सिंह हत्याकांड के आरोपी नंद कुमार सिंह उर्फ मामा से पूछताछ की है बता दें कि रंजय सिंह हत्याकांड की सुनवाई जज उत्तम आनंद की न्यायालय में चल रहा था


सिमडेगा पुलिस की कलंक कथा: रायपुर से 80 लाख की आभूषण चोरी केस में बड़ा खुलासा, बांसजोर के तालाब से मिले गहने

सिमडेगा पुलिस की कलंक कथा: रायपुर से 80 लाख की आभूषण चोरी केस में बड़ा खुलासा, बांसजोर के तालाब से मिले गहने

सिमडेगा पुलिस की कलंक कथा का पन्ना खुल गया है सूत्र बता रहे हैं कि छत्तीसगढ़ के रायपुर से चोरी हुए गहने पुलिस जवानों की निशानदेही पर तालाब से बरामद कर लिए गए हैं बता दें कि इस मुद्दे में पहले ही बांसजोर थाना प्रभारी निलंबित किये जा चुके हैं केस रायपुर से 80 लाख के गहनों की डकैती का है इस मुद्दे की पुलिस मुख्यालय के आदेश पर जाँच हुई है जो जानकारी सामने आ रही है इसके मुताबिक इस काण्ड में पुलिसकर्मियों ने रिकवर्ड किए गए जेवरातों के बारे में आधी-अधूरी जानकारी शेयर की थी और बरामद हुए गहनों की पूरी रिकवरी नहीं दिखाई गई थी पुलिसवालों से हुई पूछताछ के बाद ही ये गहने बरामद किए गए हैं हालांकि, एसपी सिमडेगा ने केवल इतनी ही पुष्टि की है कि कुछ गहने मिले हैं, पर कैसे मिले इसके खुलासे के लिए थोड़ा इन्तजार करें

बताया जा रहा है कि छत्तीसगढ़ के रायपुर में ज्वेलरी शोरूम से 80 लाख के गहनों की चोरी हुई थी मुद्दे में सिमडेगा पुलिस ने वाहन चेकिंग के दौरान आरोपियों को हिरासत में लिया था इसके बाद सिमडेगा पुलिस ने आरोपियों के पास से चोरी के गहने बरामद किए थे हालांकि 2 दिनों तक आरोपियों को पकड़ने के बाद इसकी सूचना छत्तीसगढ़ पुलिस से छिपाई गई थी इसके बाद 2 आरोपियों की गिरफ्तारी और 25 लाख के जेवरों की रिकवरी की ही जानकारी  दी गई थी

मामले को लेकर रायपुर पुलिस ने सिमडेगा के बांसजोर ओपी के पुलिसवालों की कार्यशैली पर संभावना जाहिर की थी छत्तीसगढ़ पुलिस ने झारखंड पुलिस के वरीय ऑफिसरों के साथ सबूत शेयर किए थे
मुद्दे की गंभीरता को देखते हुए बांसजोर ओपी प्रभारी को तब सस्पेंड कर दिया गया था वहीं मुद्दे की उच्चस्तरीय जाँच के लिए एसआईटी का गठन किया गया था