झारखण्ड

इस स्कूल में एरो-इनोवेशन लैब शुरू,बच्चे एयरोनॉटिक्स टेक्नोलॉजी से होगें अवगत

बोकारो बोकारो के सेक्टर 4 डीपीएस विद्यालय में विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के क्षेत्र मे बढ़ोतरी के लिए बुधवार को एरो-इनोवेशन लैब (एरो लैब) का शुरुआत किया गया, जहां विद्यार्थी अब पढ़ाई के साथ-साथ एयरोनॉटिक्स, एविएशन और स्पेस टेक्नोलॉजी से जुड़े तकनीकी गुर सीखेंगे इस प्रकार का लैब झारखंड में पहली बार विद्यालय में स्थापित किया गया है जहां बच्चे एयरोनॉटिक्स और स्पेस टेक्नोलॉजी से जुड़े क्षेत्रों से अवगत होंगे इस लैब का नामांकरण राष्ट्र के पहले अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा और पहली स्त्री अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम पर किया गया है

नई शिक्षा नीति में विद्यार्थियों को व्यावहारिक और अनुभव आधारित शिक्षा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से स्टीम(एस- साइंस, टी- टेक्नोलॉजी, ई- इंजीनियरिंग, ए- आर्ट्स एवं एम- मैथमेटिक्स) एजुकेशन के अनुसार एरो इनोवेशन लैब की आरंभ की गई है ताकि विद्यालय में पढ़ाई गए हाइड्रॉलिक्स एयरोडायनेमिक्स के सिद्धांतों और कांसेप्ट को जीवित रूप में बच्चे छूकर और अच्छी तरह चीजों को समझ पाएंगे

बच्चे एयरोनॉटिक्स टेक्नोलॉजी से होगें अवगत
विमानन मे नवाचार के इस लैब में प्रदूषण रहित 3D पेंटिंग सीएनसी लेजर, कटिंग मैकेनिकल टूल्स, वेदर मैन ,विंड टनल, ड्रोन टेक्नोलॉजी रॉकेट साइंस ,सैटेलाइट,मार्स रोवर ,हाइड्रोलिक आधारित एक्सलेटर , ट्रांजिस्टर एवं सेंसर आधारित वायुयान संचालक आदि की बारीकियां बच्चों को सिखाई जा रही है विद्यालय के प्राचार्य, ए एस गंगवार ने लैब का उद्घाटन करते हुए बोला कि शिक्षा में समय के साथ काफी परिवर्तन हो चुका है एविएशन, एरोनॉटिक्स और स्पेस टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी करियर की अपार संभावनाएं हैं जिसमें भविष्य में अपना कैरियर बना सकते हैं

Related Articles

Back to top button