झारखण्ड

80 मुख्यमंत्री उत्कृष्ट विद्यालय में नामांकन के लिए हुई प्रवेश परीक्षा

रांची : राज्य के 80 सीएम उत्कृष्ट विद्यालय में नामांकन के लिए शुक्रवार को प्रवेश परीक्षा हुई विद्यालयों में 8984 सीट पर नामांकन के लिए 36230 विद्यार्थियों ने आवेदन जमा किया था इसमें से लगभग 33 हजार विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए 30 मार्च को नामांकन के लिए पहली मेरिट लिस्ट जारी की जायेगी एक से सात अप्रैल तक जारी मेरिट लिस्ट के मुताबिक चयनित विद्यार्थियों का नामांकन होगा, जबकि आठ अप्रैल से कक्षाएं प्रारम्भ होंगी प्रथम मेरिट लिस्ट में नामांकन के लिए चयनित विद्यार्थी यदि नामांकन नहीं लेते हैं, तो सेकेंड लिस्ट जारी की जायेगी 80 में से चार विद्यालयों में कक्षा एक से 12वीं, 27 विद्यालयों में कक्षा नौ से 12वीं, 48 विद्यालयों में कक्षा छह से 12वीं और एक विद्यालय में कक्षा एक से 10वीं तक की पढ़ाई होती है सभी जिलों से परीक्षा के बाद झारखंड शिक्षा परियोजना को रिपोर्ट भेजी गयी है राज्य भर में परीक्षा शांतिपूर्वक हुई इस साल विद्यालय में नामांकन के लिए रिकाॅर्ड आवेदन जमा हुआ था पिछले साल लगभग 20 हजार आवेदन जमा हुआ था

राज्य गवर्नमेंट ने आफ्टर केयर योजना प्रारम्भ की है इसका फायदा उन बच्चों को मिलेगा, जो बालगृह (संस्थागत देखरेख) में रहते हैं इस योजना के अनुसार 18 वर्ष की उम्र पूरी करने वाले ऐसे बच्चों को कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जायेगा साथ ही अन्य सरकारी सहायता मौजूद करायी जायेगी ताकि, वे मुख्यधारा से जुड़ कर बेहतर ढंग से जीवनयापन कर सकेंइसके लिए ऐसे बच्चों को दक्ष बनाते हुए उन्हें वित्तीय सहायता भी मौजूद करायी जायेगी इसको लेकर जिला बाल संरक्षण विभाग ने प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी है जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी वेद प्रकाश तिवारी ने कहा कि इसके अनुसार वैसे बच्चों को सूचीबद्ध किया जायेगा, जो संस्थागत देखरेख से निकल चुके हैं या फिर निकट भविष्य में उनकी यह अवधि पूरी होने वाली है इसको लेकर सर्वे भी कराया जायेगादीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल विकास योजना, कौशल विकास मिशन, झारखंड आजीविका मिशन सहित केंद्र और राज्य गवर्नमेंट द्वारा कौशल विकास के लिए चलायी जा रहीं योजना से जोड़ा जायेगा कौशल विकास मिशन द्वारा प्रशिक्षण दिया जायेगा प्रशिक्षण के बाद रोजगार के लिए बैंक से वित्तीय सहायता सहित गवर्नमेंट की अन्य योजनाओं का फायदा दिया जायेगा इस कार्य में संस्था को भी जोड़ा जायेगा ज्ञात हो कि अभी राजधानी में पांच बालगृह संचालित हैं, जहां 150 बच्चे रह रहे हैं

Related Articles

Back to top button