भगवान महावीर का संदेश विश्व शांंति का कारण बनेगा: आर्यिका,चातुर्मास को लेकर पिच्छी परिवर्तन कार्यक्रम आयोजित,जैन साधु-संत प्रकृति के अनुपम उपहार: शालिनी गुप्ता

भगवान महावीर का संदेश विश्व शांंति का कारण बनेगा: आर्यिका,चातुर्मास को लेकर पिच्छी परिवर्तन कार्यक्रम आयोजित,जैन साधु-संत प्रकृति के अनुपम उपहार: शालिनी गुप्ता

मनोज पांडेय की रिपोर्ट
श्री दिगंबर जैन मंदिर स्थित पंडाल में मंगलवार को दिगंबर जैन समाज के तत्वावधान में जैन आर्यिकाओं का चल रहा चातुर्मास को लेकर पिच्छी परिवर्तन एवं पंच परमिष्टी विधान का आयोजन किया गया। इस मौके पर दिगंबर जैन समाज के द्वारा तार में लगे झूले के जरिए नई पिच्छी वात्सल्य विदुषी आर्यिका श्री 105 सौभाग्य मती माता ससंघ को मोर पिच्छी अर्पित की गई।यह सुंदरता, सरलता और सरसता का संदेश देती है। इस मौक पर पुरानी पिच्छी प्राप्त करने का सौभाग्य जयकुमार गंगवाल, प्रदीप छाबड़ा और निर्मल छबड़ा को मिला। मौके पर बालिकाओं और महिलाओं के द्वारा नृत्य संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। मौके पर आर्यिका श्रीमत सौभाग्यमती माता जी ने कहा कि वर्तमान का समय आतंक एवं हिंसा का है। भगवान महावीर का संदेश जियो और जीने दो पूरे विश्व में शांति का कारण बनेगा। उन्होंने कहा कि अपने घरों में समृद्वि निरंतर बनी रहे इसके लिए महापुरुषों के बताएं मार्गों का अनुसरण करना चाहिए। मानव जीवन का कल्याण मानवता को शांति का संदेश देता है।

वर्तमान में युवा वर्ग को मित्रता प्रदान करनेका सामथ्र्य रखते हैं। कोडरमा के युवा समाज देश और समाज को समृद्वि की ओर ले जा रहे हैं। मौके पर जिप प्रधान शालिनी गुप्ता ने भी सौभाग्यमती माता जी और ससंघ से आशीर्वाद लिया। जैन समाज के द्वारा जिप प्रधान को चातुर्मास समिति के संयोजक नरेंद्र झांझरी, राजेश छाबड़ा, शैलेश छाबड़ा, विकास सेठी, ममता सेठी ने प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया।

इस मौके पर जिप प्रधान ने कहा कि जैन साधु प्रकृति के सुंदर उपहार हैं। उनके द्वारा किए गए मार्गर्शन जीवन को तरोताजा करता है। जैन साधु-संतों का त्याग और संयम प्रेरित करता है। जैन दर्शन हमें कई शिक्षा भी देता है। इस मौके पर सुरेश झांझरी, नरेंद्र झांझरी, ललीत सेठी ने कहा कि मंदिर का जीणोद्वार किया जाएगा।

इसके लिए माता जी को श्रीफल भेंटकर अपने कुशल नेतृत्व में बनवाने की अनुमति मांगी। भरतपुर से आए संतोष कुमार एवं टीम के द्वारा प्रस्तुत गीत पिच्छी ओ पच्छी इतना बता दे कौन सा काम किया है, खंश होकर गुरुवर ने अपना लिया है.... तथा देदो आशीर्वाद गुरुवर तेरा क्या घट जाएगा, ये बालक भी तर जाएंगे जैसे भजन प्रस्तुत किए। कार्यक्रम में दीप सजाओ और पूजन सामग्री सजाओ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन छतरपुर से आए बालब्रह्मचारी पंकज शास्त्री और राज छाबड़ा ने संयुक्त रुप से किया।

कार्यक्रम के पूर्व पानी टंकी रोड स्थित नया जैन मंदिर से चौबीस भगवान के साथ भ्रमण किया गया। मंदिर पहुंचकर कलशाभिषेक आयोजन हुआ। मौके पर प्रदीप पांड्या, कमल सेठी, सरोज पापड़ीवाल, प्रदीप सोगानी, राजकुमार अजमेरा, सुनील छाबड़ा, विजय सेठी, पार्षद पिंकी जैन, रोटरी के सचिव नवीन जैन सहित कई लोग मौजूद थे।
--------- 


जिप प्रधान शालिनी गुप्ता ने हावड़ा जोधपुर एक्सप्रेस के ठहराव की मांग की

जिप प्रधान शालिनी गुप्ता ने हावड़ा जोधपुर एक्सप्रेस के ठहराव की मांग की

कोडरमा। जिला परिषद प्रधान शालिनी गुप्ता ने कोडरमा और पारसनाथ स्टेशन पर हावड़ा जोधपुर एक्सप्रेस के ठहराव की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में रेलवे मंत्रालय के साथ ही रेल मंत्री, रेलवे चेयरमैन और महाप्रबंधक को ट्वीट किया है। रविवार को इस ट्वीट में उन्होंने कहा कि 12307 और 12308 हावड़ा जोधपुर एक्सप्रेस का ठहराव 1 जून 2020 से ही झारखंड के कोडरमा जंक्शन और पारसनाथ स्टेशन पर नहीं हो रहा है।

वहीं कोहरे के कारण 12987 और 12988 सियालदह अजमेर एक्सप्रेस का परिचालन 1 दिसम्बर 2021 से 28 फरवरी 2022 तक रद्द करने की घोषणा की गयी है। ऐसे में राजस्थान के जयपुर, कोटा, अजमेर और खाटूश्याम का सम्पर्क झारखंड के लोगों से कट जाएगा। जिप प्रधान शालिनी गुप्ता ने आग्रह किया है कि उक्त ट्रेनों का ठहराव पूर्व की भांति कोडरमा और पारसनाथ स्टेशन पर किया जाय। इसके साथ ही हजारीबाग रोड स्टेशन पर भी 12801 और 12802 पुरी नयी दिल्ली पुरुषोत्तम एक्सप्रेस का ठहराव पूर्व की भांति शुरू किया जाय ताकि स्थानीय लोगों को दूर की यात्रा करने में सुविधा हो सके।