झारखण्ड

यहां रामपंचमी के जुलूस में दिखा महिला सशक्तिकरण

हजारीबाग के रामनवमी की बात ही अलग है ऐसे ही नहीं इसे इंटरनेशनल रामनवमी बोला जाता है रामनवमी आने से पहले ही पंचमी के दिन हजारीबाग में  स्त्रियों के द्वारा शोभा यात्रा निकाला गया यहां महिलाएं मराठी वेशभूषा में बुलेट चलाते हुए दिखाई दी वहीं कुछ स्त्रियों ने तलवारबाजी का करतब कर सबको चौंका दिया इस शोभा यात्रा के माध्यम से स्त्री सशक्तिकरण पर विशेष बल दिया गया

हजारीबाग में जैसे जैसे रामनवमी निकट आता जा रहा है हजारीबाग भगवा रंग में रंगता भी जा रहा है पंचमी के दिन आयोजित शोभा यात्रा में सैकड़ों की संख्या में स्त्री पुरुष बच्चों ने हिस्सा लिया पूरे शोभा यात्रा का नेतृत्व स्त्रियों के द्वारा किया गया था इस दौरान पूरा शहर जय श्रीराम के घोष से गूंज उठा ज्ञात हो सनराइज ग्रुप पिछले कई वर्षों से पंचमी के दिन जुलूस का आयोजन करता आ रहा है

ओडिसा के ढोल ने बांधा समां
इस शोभा यात्रा में हर साल कुछ न कुछ खास इस ग्रुप के द्वारा किया जाता है इस बार उड़ीसा से ढोल पूरे जुलूस का आकर्षण का केन्द्र बिन्दु था जिसमें एक दर्जन से अधिक ढोल बजानेवाले कलाकार शामिल थे ढोल का आकार देखकर सभी कोई अचंभित था एक बड़े वाहन में चार ढोल और उसके साथ एक दर्जन से अधिक छोटे ढोल वाले रास्ता भर लोगों का मनोरंजन करते आए ढोल की आवाज में सभी को पुराने दौर में ले गया यहां पारंपरिक वाद्य यंत्रों से रामनवमी में जुलुश निकाला जाता थाइस शोभा यात्रा में बुलेट, तलवार चलाती कई महिलाऐं दिखी कुछ लड़कियां घुड़सवारी भी कर रही थी इसी शोभायात्रा में बुलेट चलाती अनिता कुमारी भारती ने कहा कि यह शोभायात्रा इस शहर का आकर्षण का केंद्र है इसके आरंभ से यहां के लड़कीयों महिलाओं को बढ़ावा मिलता है पिछले साल की तुलना में इस साल अधिक संख्या में महिलाएं इस शोभायात्रा में भाग ली है

Related Articles

Back to top button