Zhu Hai Yun: China का ये जासूसी जहाज एक बार में लॉन्‍च कर सकता है कई ड्रोन

Zhu Hai Yun: China का ये जासूसी जहाज  एक बार में लॉन्‍च कर सकता है कई ड्रोन

चीन ने कुछ ऐसा ही जहाज बनाने का दावा किया है जो पानी पर बिना किसी चालक दल के यात्रा कर सकता है. इसे कहीं से भी कंट्रोल किया जा सकता है. ये जहाज सेल्फ ऑटोमेटेड है. यानी की स्वयं ही ऑपरेट होता है.

आपने अनमैन्ड एरियल व्हीकल यानी यूएवी का नाम सुना होगा. दरअसल, हम ड्रोन्स की बात कर रहे हैं जिनका उपयोग इन दिनों शादी-विवाह से लेकर फिल्मों की शूटिंग तक में हो रहा है. ये अब आपके घरों तक पास्ता-पिज्जा भी डिलीवर करने लग गए हैं. यानी इसे किसी एक स्थान से बैठे-बैठे ऑपरेट किया जा सकता है, भले ही आप उस स्थान पर उपस्थित न हो. लेकिन क्या आपने किसी ऐसे जहाज के बारे में सुना है जो बिना चालक दल के समुंद्र में तैरता हो. दरअसल, चीन ने कुछ ऐसा ही जहाज बनाने का दावा किया है जो पानी पर  बिना किसी चालक दल के यात्रा कर सकता है.

इसे कहीं से भी कंट्रोल किया जा सकता है. ये जहाज सेल्फ ऑटोमेटेड है. यानी की स्वयं ही ऑपरेट होता है. चीन के इस एडवांस शिप का नाम झू हे यू है. ये अपने आप में दुनिया का पहला ऐसा जहाज है. झू है युन आखिरकार दक्षिण चीन के ग्वांगडोंग प्रांत में अपने घरेलू बंदरगाह झुहाई गाओलान बंदरगाह पर पहुंच गया. झू है युन स्वायत्त नेविगेशन और रिमोट-कंट्रोल कार्यों के साथ पहला मानव रहित प्रणाली वैज्ञानिक अनुसंधान जहाज है. दक्षिणी समुद्री विज्ञान और इंजीनियरिंग ग्वांगडोंग प्रयोगशाला के निदेशक चेन डेक ने बोला कि झू हे यू का पहला पेशेवर समुद्री परीक्षण किया गया. चीनी मीडिया में आई खबरों के अनुसार ड्रोन वाहक पोत ने 12 घंटे की सेल्फ नेविगेशन को पूरा किया. 

चेन ने बोला कि इसने इच्छित रिज़ल्ट को पूरा किया. इससे पहले, पिछले वर्ष मई में पोत का पहली बार बीजिंग द्वारा अनावरण किया गया था. हालाँकि, झू हे यूं का निर्माण जुलाई 2021 में चीन की सबसे बड़ी जहाज निर्माण कंपनी हुआंगपु वेनचोंग शिपयार्ड द्वारा प्रारम्भ किया गया था, जो चाइना स्टेट शिपबिल्डिंग कॉर्पोरेशन की सहायक कंपनी है. इसकी लॉन्चिंग के समय, ऐसी खबरें थीं कि जहाज को 2022 के अंत तक डिलीवर कर दिया जाएगा. समाचार है कि इस ड्रोन जहाज का उपयोग चीन जासूसी के लिए करने जा रहा है. यदि ऐसा है तो ये हिंदुस्तान के लिए चिंता की  बात हो सकती है. ये जहाज इतना एडवांस है कि सरलता से रडार की पकड़ में नहीं आने वाला.