CAA व NRC को लेकर बांग्लादेश ने हिंदुस्तान से बनाई दूरियां : शेख हसीना

CAA व NRC को लेकर बांग्लादेश ने हिंदुस्तान से बनाई दूरियां : शेख हसीना

नयी दिल्ली में हुए रायसीना डायलॉग में बांग्लादेश के भाग नहीं लेने पर यह चर्चा हो रही थी कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) व राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) को लेकर बांग्लादेश ने हिंदुस्तान से दूरियां बनानी शुरुआत कर दी है. इसी बीच रविवार को बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने CAA व NRC पर अपना स्टैंड स्पष्ट कर दिया है.

शेख हसीना ने बोला है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) व राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) हिंदुस्तान का आंतरिक मुद्दा है, किन्तु इसी के साथ यह भी बोला कि कानून महत्वपूर्ण नहीं था. नागरिकता संशोधन कानून के अनुसार, पाकिस्तान, बांग्लादेश व अफगानिस्तान में धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक वहां से हिंदुस्तान आए हिंदू, जैन, सिख, पारसी, बौद्ध व ईसाई समुदाय के लोगों को हिंदुस्तान की नागरिकता प्रदान की जाएगी. इस विवादित कानून के विरूद्ध हिंदुस्तान में कई स्थानों पर विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं.

शेख हसीना ने मीडिया को दिए गए एक एनकाउंटर में हिंदुस्तान के नागरिकता संशोधन कानून के बारे में बोला कि हम नहीं समझ रहे हैं कि हिंदुस्तान सरकार ने ऐसा क्यों किया. यह आवश्यक नहीं था. उनका यह बयान बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन के उस वक्तव्य के बाद आया है कि CAA व NRC हिंदुस्तान के आंतरिक मसले हैं, किन्तु इस बात पर चिंता प्रकट की थी कि वहां किसी भी किस्म की अनिश्चितता का पड़ोस पर प्रभाव होगा.