अंतर्राष्ट्रीय

यूनेस्को ने गरबा डांस को विश्वभर में गौरवशाली उपलब्धि मानी जाने वाली सूची में लिया जोड़

संयुक्त देश की शीर्ष इकाइयों में शामिल- यूनेस्को ने गुजरात के पारंपरिक गरबा डांस को सांस्कृतिक धरोहर भी बोला गया है यूनेस्को ने हाल ही में गरबा डांस को विश्वभर में गौरवशाली उपलब्धि मानी जाने वाली सूची में जोड़ लिया है इसी को लेकर फेडरेशन ऑफ भारतीय एसोसिएशन (एफआईए) एनवाई-एनजे-सीटी-एनई ने कई सामुदायिक संगठनों और न्यूयॉर्क में भारतीय महावाणिज्य दूतावास के समर्थन के साथ ‘क्रॉसरोड्स ऑफ द वर्ल्ड’ में एक स्मारक गरबा कार्यक्रम को आयोजन करने का निर्णय कर लिया है

यहा है गरबा लोकप्रिय: खबरों का बोलना है कि ‘गरबा’ गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान सहित हिंदुस्तान के प्रमुख राज्यों में एक बहुत ही लोकप्रिय समूह लोक नृत्य है अक्सर नवरात्रि के दौरान गरबा उत्सव सेलिब्रेट किया जाता है इसकी लोकप्रियता राष्ट्र ही नहीं बल्कि विदेशों में बहुत है इसे संयुक्त अरब अमीरात (दुबई), संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और कई अन्य राष्ट्रों में प्रवासी भारतीय प्रवासियों के मध्य बहुत पसंद किया गया है उल्लेखनीय है कि गरबा डांस को UNESCO की सूची में शामिल करने के लिए नॉमिनेट किया था बुधवार को यूनेस्को के निर्णय के बाद गुजरात के मुख्यमंत्री ने बोला था कि गरबा के रूप में देवी मां की भक्ति की सदियों पुरानी परंपरा न सिर्फ़ जीवित है, बल्कि इसे आगे भी बढ़ाया जा रहा है

छह दिसंबर को किया था:  बता दें कि  मंगलवार को दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्र बोत्सवाना में अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा के लिए बनाई गई यूनेस्को की अंतर सरकारी समिति की 18वीं बैठक को प्रारम्भ किया गया इस बीच अमूर्त सांस्कृतिक विरासत (Intangible Cultural Heritage या आईसीएच) की सुरक्षा के लिए 2003 कन्वेंशन के भीतर गरबा डांस को यूनेस्को की सूची में शामिल करने का घोषणा भी कर दिया गया इस निर्णय के उपरांत उत्सव को बड़े ही उत्साह के साथ मनाया गया इस कार्यक्रम में भाग लेने वालों को निःशुल्क में यात्रा, जलपान और भागीदारी प्रमाण पत्र प्रदान किए गए थे यह कार्यक्रम गुजरात की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का एक अनूठा उदाहरण था, क्योंकि मौजूद लोगों ने पारंपरिक गरबा पोशाक भी पहन रखी थी

अमूर्त विरासत सूची में: यूनेस्को ने बुधवार को एक सोशल मीडिया पोस्ट में इण्डिया को शुभकामना देते हुए लिखा कि अमूर्त विरासत सूची पर नया शिलालेख: गुजरात का गरबा इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए एफआईए ने पूरे भारतीय अमेरिकी समुदाय को एक खुला आमंत्रण भेजा कार्यक्रम को आयोजित करने के लिए न्यूयॉर्क में हिंदुस्तान के महावाणिज्य दूतावास ने भी अपना योगदान भी प्रदान किया इस बीच, पीएम मोदी ने बुधवार को यूनेस्को द्वारा ‘गरबा’ को अमूर्त विरासत घोषित किए जाने की प्रशंसा की

 

 

Related Articles

Back to top button