कोरोना वायरस के नाम पर पाकिस्तान में हिन्दुओ के साथ हो रही यह बड़ी नाइन्साफ़ी

कोरोना वायरस के नाम पर पाकिस्तान में हिन्दुओ के साथ हो रही यह बड़ी नाइन्साफ़ी

 पाक में कोरोना महामारी के चलते स्थिति गंभीर हो गई है. रविवार तक यहां 1560 पॉजिटिव मुद्दे सामने आए व 14 लोगों की जान गई. इमरान खान सरकार प्रभावित इलाकों तक सहायता पहुंचाने की प्रयास कर रही है,

लेकिन सिंध प्रांत में रहने वाले अल्पसंख्यक हिंदुओं के साथ बहुत ज्यादा पक्षपात किया जा रहा है. पिछले दिनों लोकल प्रशासन की तरफ से कराची में लोगों को राशन व अन्य आवश्यक सामान बांटा गया, किन्तु हिंदुओं को खाली हाथ लौटा दिया गया.

उनसे बोला गया कि यह राहत उनके लिए नहीं बल्कि केवल मुस्लिम समुदाय के लोगों के लिए है. सिंध में हिंदुओं की आबादी लगभग 5 लाख है. सिंध प्रांत में लॉकडाउन के दौरान फंसे मजदूरों व श्रमिकों के लिए राशन बांटने का जिम्मा सरकार ने प्रशासन व NGO को सौंप रखा है. यहां लगभग 3 हजार लोग सहायता के लिए जुटे थे. इनकी स्वास्थ्य जाँच व स्क्रीनिंग के भी कोई बंदोबस्त नहीं किए गए. इस लिहाज से अल्पसंख्यक आबादी में संक्रमण का खतरा बना हुआ.

सियासी कार्यकर्ता डॉ अमजद अयूब मिर्जा ने बोला है कि कराची शहर व सिंध प्रांत के विभिन्न इलाकों में रहने वाले हिंदुओं के समक्ष खाने-पीने के सामान का गंभीर संकट खड़ा हो चुका है. वे हिंदुस्तान सरकार से सहायता की गुहार लगा रहे हैं. उनकी मांग है कि पीएम नरेंद्र मोदी राजस्थान के रास्ते सिंध के हिंदुओं के लिए राशन व अन्य आवश्यक सामान भेजें.