कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका ने भड़कते हुए बोली यह बड़ी बात

 कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका ने भड़कते हुए बोली यह बड़ी बात

 कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका व चाइना के बीच घमासान रुकने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों देश कोरोना वायरस की उत्पत्ति के लिए लगातार एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। सोमवार को फ्रांस में चीनी दूतावास ने एक बार फिर साबित करने का कोशिश किया कि कोरोना वायरस अमेरिका से ही फैलना प्रारम्भ हुआ है।

चीनी दूतावास ने ट्वीट में इस बात का इशारा दिया कि जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीनी वायरस कह रहे हैं, वह अमेरिका में ही उत्पन्न हुआ है। पेरिस स्थित चीनी दूतावास ने ट्वीट में लिखा है कि, अमेरिका में गत साल सितंबर महीने में प्रारम्भ हुए फ्लू से हुईं 20,000 मौतों में कोरोना वायरस के कितने केस थे? क्या अमेरिका ने नए कोरोना वायरस के न्यूमोनिया के केसेस को फ्लू बताकर प्रस्तुत करने की प्रयास नहीं की? हालांकि, दूतावास ने अपने इस दावे को लेकर किसी भी प्रकार के वैज्ञानिक सबूत पेश नहीं किए।

सोमवार को फ्रांस स्थित चीनी दूतावास ने अमेरिका पर कई सवाल दागे। चीनी दूतावास ने बोला कि, जुलाई महीने में अमेरिका ने मैरीलैंड में फोर्ट डेट्रिक बेस स्थित बायोकेमिकल वीपन्स रिसर्च सेंटर को एकदम से बंद कर दिया था। इस प्रयोगशाला के बंद होने के बाद अमेरिका में न्यूमोनिया या इस प्रकार के कई मुद्दे सामने आए थे