विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने तिब्‍बत एक्‍ट को साफ करते हुए चीनी को लेकर बोली यह बड़ी बात

विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने तिब्‍बत एक्‍ट को साफ करते हुए चीनी को लेकर बोली यह बड़ी बात

बीते कई दिनों हांगकांग के बाद अब अमेरिका व चाइना के बीच तिब्‍बत को लेकर परेशानियां बढ़ती ही जा रही है। वहीं अमेरिका ने चाइना के विरूद्ध सख्त कदम उठाते हुए तिब्‍बत एक्‍ट के तहत चीनी अधिकारियों के अमेरिका में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिए गए है।

 विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने तिब्‍बत एक्‍ट को साफ करते हुए बोला कि अमेरिका ने चीनी अधिकारियों के एक निश्चित समुह के लिए वीजा पर रोक का एलान कर दिया है। हम बता दें कि अमेरिका ने यह कदम तब उठाया जब चाइना ने अमेरिकी राजनयिकों एवं पर्यटकों के लिए तिब्‍बती स्‍वायत्‍त क्षेत्र (टीएआर) में प्रवेश पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी थी। लेकिन पहले चाइना ने इसकी आरंभ की जिसका मुँह तोड़ जबाव अमेरिका ने चाइना को दिया।

चीन के इस कदम से बाैखलाया अमेरिका: वहीं इस बारे में उन्‍होंने आगे बोला कि यह रोक उन चीनी अधिकारियों के लिए है, जिन्‍होंने विदेशियों के लिए तिब्‍बत के सभी रस्ते बंद कर दिए गए है। जिसके बाद विदेशी मंत्री ने बोला कि बीजिंग ने अमेरिका के राजनयिकों व अन्‍य अधिकारियों, पर्यटकों के लिए टीएआर व अन्‍य तिब्‍बती क्षेत्रों में प्रवेश पर पूर्णतः रोक लगा दी है। जिसके बाद उन्‍होंने बोला कि चाइना यात्रा में बाधा डालने के लिए कई तरह के कोशिश कर रहे है, जबकि चीनी अधिकारियों एवं अन्‍य नागरिक अमेरिका में प्रवेश करने के बाद उसका पूरा लुफ्त ले रहे है। पोम्पियो ने आगे बोला कि वह चीनी सरकार व चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों पर वीजा प्रतिबंधों का एलान कर दिया है, जो तिब्बती क्षेत्रों में विदेशियों के लिए पहुंच से संबंधित नीतियों के निर्माण या निष्पादन में बहुत ज्यादा हद तक शामिल हैं।

क्षेत्रीय स्थिरता के लिए बहुत जरूरी कदम: वहीं यह भी बोला जा रहा है कि तिब्बती क्षेत्रों में प्रवेश क्षेत्रीय स्थिरता के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि वहां चीनी मानवाधिकारों का कत्ल कर रहे है। पोम्पिओ ने बोला कि अमेरिका तिब्बती समुदायों के सतत आर्थिक विकास, पर्यावरण संरक्षण व मानवीय स्थितियों को आगे बढ़ाने के लिए कार्य करना जारी रखने वाला है।