वैज्ञानिकों ने लगाया कोरोनावायरस के जन्म स्थान का पता

वैज्ञानिकों ने लगाया कोरोनावायरस के जन्म स्थान का पता

विश्व के कई देश कोरोनावायरस का कहर झेल रहे हैं। ऐसे में कई बार ऐसी खोज भी की गई कि आखिर कोरोनावायरस पैदा कहां से हुआ? ये वायरस आया कहां से? अधिकांश लोगों ने इसके पैदा होने की स्थान चाइना के वुहान प्रांत की वायरोलॉजी प्रयोगशाला या फिर वहां की मीट बाजार को बताया।

अब कोरोनावायरस को लेकर एक नयी बात सामने आ रही हैं, हालांकि ये तथ्य अभी किसी मेडिकल जर्नल या कहीं अन्य स्थान पर प्रकाशित नहीं हुए हैं। मगर ये बोला जा रहा है, कि वर्ष 2019 में बार्सिलोना में कोरोनावायरस की पहचान कर ली गई थी।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ये रिसर्च अभी तक किसी जर्नल में प्रकाशित नहीं की गई है। मगर वैज्ञानिकों ने मार्च 2019 में बार्सिलोना, स्पेन में गंदे पानी में में कोरोनोवायरस की मौजूदगी पाई थी। रिसर्च में बोला गया है कि चाइना के वुहान में कोरोनावायरस मिलने से पहले स्पेन में ये वायरस पाए गए थे। वही, निष्कर्षों की समीक्षा करने वाले स्वतंत्र विशेषज्ञों ने बोला कि उन्हें वैज्ञानिकों के इस दावे पर शक है. उनका बोलना है, कि जो अध्ययन किए गए हैं वो पूरी तरह से सटीक नहीं मालूम पड़ते हैं। वैसे संसार के अधिकांश राष्ट्रों को यही मालूम है कि कोरोनावायरस के शुरूआती सबूत दिसंबर 2019 में चाइना में देखने को मिले थे। चाइना में वायरस के सबूत मिल जाने के बाद फरवरी 2020 में स्पेन में इसका संक्रमण फैला था। हजारों की संख्या में लोग इसके संक्रमण का शिकार हुए थे।