दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं

दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं

जिनेवा: स्विट्जरलैंड के ऑफिसरों ने रूस (Russia) के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के बीच अगले सप्ताह होने वाली शिखर बातचीत (Biden-Putin Summit) के दौरान अलावा सुरक्षा के लिए जिनेवा (Geneva) शहर के एयर जोन को अस्थायी रूप से प्रतिबंधित करने और इलाके में 3,000 सैनिकों तथा पुलिसवालों को तैनात करने की योजना बनाई है

स्विट्जरलैंड की सात सदस्यीय कार्यकारी संस्था संघीय परिषद (Federal Council) ने शुक्रवार को अस्थायी कदमों को स्वीकृति दी जिसमें बुधवार को होने वाली शिखर बातचीत के दौरान देश की वायु सेना द्वारा वायु क्षेत्र की नज़र करना और 1,000 सैनिकों को तैनात करना शामिल है

स्विट्जरलैंड के संघीय रक्षा विभाग ने एक बयान में कहा, ‘उन लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करना स्विट्जरलैंड (Switzerland) की जिम्मेदारी है जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार विशेष सुरक्षा मिली है जैसे कि अमेरिका और रूस के राष्ट्राध्यक्षों के विशेष सिक्योरिटी प्रोटोकॉल की हमने पूरी तैयारियां की हैं '

बताते चलें कि मंगलवार प्रातः काल 8 बजे से गुरुवार शाम 5 बजे तक रहने वाली इस पाबंदी से जिनेवा से उड़ान भरने वाले और यहां आने वाले विमानों की आवाजाही पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा वहीं दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच ये मुलाकात एक 18वीं सदी के प्राचीन विला में हो रही है इसके लिए विला को रिपेयर किया जा रहा है वहीं पूरे शहर में गाड़ियों की सघन तलाशी का अभियान चल रहा है

जिनेवा पुलिस विभाग की कमांडर कर्नल मोनिका बोनफांती ने शिखर बातचीत स्थल के बाहर संवाददाता सम्मेलन में बोला कि स्विट्जरलैंड के अन्य क्षेत्रों से 900 अलावा पुलिस ऑफिसरों को बुलाया जाएगा संघीय पुलिस ऑफिस के उप निदेशक स्टीफन थीमर ने बताया कि उनके ऑफिस को खतरे का कोई इशारा नहीं मिला है

इसके साथ ही उन्होंने ये भी बोला कि स्विट्जरलैंड और यूरोप (Europe) में आतंकी खतरा अधिक रहता है इसलिए हम किसी भी तरह की कोई गलती नहीं होने देंगे

रक्षा विभाग ने बताया कि अलावा सैनिक विदेशी दूतों की रक्षा करेंगे और जिनेवा की क्षेत्रीय पुलिस को योगदान देंगे लोकल प्राधिकारियों ने बृहस्पतिवार को घोषणा की कि बाइडन की राष्ट्रपति के तौर पर पहली विदेश यात्रा के अनुसार होने वाली यह शिखर बातचीत 18वीं सदी के एक मैनर हाउस में होगी


पाकिस्तान में हिंदू धार्मिक स्थल पर हमले से इलाके में तनाव

पाकिस्तान में हिंदू धार्मिक स्थल पर हमले से इलाके में तनाव

पाकिस्तान के रहीम यार खान जिले के भोंग क्षेत्र में उन्मादी भीड़ द्वारा एक हिंदू मंदिर में तोड़-फोड़ की घटना के बाद तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। इसे देखते हुए इलाके में पैरामिलिट्री फोर्स तैनात कर दी गई है। रहीम यार खान जिला पुलिस के प्रवक्ता अहमद नवाज ने बताया कि पुलिस हमलावरों की तलाश कर रही है।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सांसद और हिंदू समुदाय के नेता रमेश कुमार वंकवानी ने इस घटना के वीडियो साझा किए। इन वीडियोज में भीड़ मंदिर के बुनियादी ढांचे को नष्ट करती नजर आ रही है। इतना ही नहीं मंदिर की मूर्तियों के साथ भी तोड़-फोड़ मचाई गई है। एक अन्य वीडियो में उन्मादी भीड़ मंदिर से सटी सड़क पर लाठी-डंडे लेकर दौड़ती दिख रही है। रमेश कुमार ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट की और कहा कि शुरुआत में पुलिस की धीमी प्रतिक्रिया के कारण स्थिति और मंदिर को नुकसान पहुंचा है। बता दें कि हाल के वर्षों में, पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के पूजा स्थल पर हमलों में वृद्धि हुई है। अपने अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा करने में असफल पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा बार-बार फटकार भी लग चुकी है।