अंतर्राष्ट्रीय

Prabhasakshi Exclusive: इजराइल-हमास संघर्ष के क्या हैं ताजा हालात…

प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क के खास कार्यक्रम शौर्य पथ में इस हफ्ते हमने ब्रिगेडियर श्री डीएस त्रिपाठी जी (सेवानिवृत्त) से जानना चाहा कि इजराइल-हमास संघर्ष के ताजा हालात क्या हैं? हमने जानना चाहा कि क्या जिस तरह हमास के आतंकवादियों का सफाया हो रहा है उसको देखते हुए संघर्षविराम की कोई आशा आपको नजर आती है? इसके उत्तर में उन्होंने बोला कि इजराइल जिस तरह हमास को समाप्त करने के जुनून में गाजा में इन्सानियत के विरुद्ध काम कर रहा है उसको देखते हुए पूरी दुनिया में उसके प्रति नाराजगी बढ़ रही है उन्होंने बोला कि इजराइल के समर्थन में जो राष्ट्र प्रारम्भ में खड़े भी थे अब उनके सुर भी धीमे पड़ गये हैं क्योंकि जिस तरह गाजा में जानमाल की बर्बादी हो रही है वह एक बड़ी त्रासदी है उन्होंने बोला कि हमास के बड़े कमांडरों को जिस तरह लगातार समाप्त किया जा रहा है उससे ईरान भी अपनी रणनीति बदल रहा है

ब्रिगेडियर श्री डीएस त्रिपाठी जी (सेवानिवृत्त) ने बोला कि इजराइल के रक्षा मंत्री योव गैलेंट ने जो घोषणा की है वह दर्शा रही है कि संघर्षविराम की कोई आसार नहीं है उन्होंने बोला कि इजराइल के रक्षा मंत्री ने युद्ध के अगले चरण के लिए अपनी योजनाओं और भविष्य की प्रबंध के बारे में अपने दृष्टिकोण को रेखांकित किया है जिसके अनुसार संपूर्ण इजरायली सुरक्षा नियंत्रण के अनुसार उस क्षेत्र पर शासन चलाया जायेगा उन्होंने बोला कि यह एक तरह से गाजा पर कब्जा करने के समान है जबकि अमेरिका भी कह चुका है कि गाजा फिलस्तीन का भाग है उन्होंने बोला कि यह घोषणा तब हुई जब इज़राइल ने बढ़ते अंतर्राष्ट्रीय दबाव के बाद हजारों आरक्षित सैनिकों को लौटने की अनुमति दी और गाजा में अपनी सेना को हटाना जारी रखा

ब्रिगेडियर श्री डीएस त्रिपाठी जी (सेवानिवृत्त) ने बोला कि रक्षा मंत्री गैलेंट के कार्यालय ने एक बयान में कहा, “गाजा पट्टी के उत्तरी क्षेत्र में हम युद्ध दृष्टिकोण में परिवर्तन करेंगे” उन्होंने बोला कि इस बयान ने युद्ध के अगले चरणों के लिए गैलेंट के दृष्टिकोण को प्रतिबिंबित करने वाले मार्गदर्शक सिद्धांतों को रेखांकित किया है उन्होंने बोला कि ऑपरेशन में छापेमारी, सुरंगों को ध्वस्त करना, हवाई और जमीनी हमले और विशेष बलों के ऑपरेशन शामिल होंगे उन्होंने बोला कि घिरे हुए क्षेत्र के दक्षिण में जहां गाजा की 2.3 मिलियन जनसंख्या का अधिकतर हिस्सा अब रह रहा है, वहां लोग तंबू और अन्य अस्थायी आश्रयों में रह रहे हैं, वहां भी हमास नेताओं को समाप्त करने और इजरायली बंधकों को बचाने के लिए ऑपरेशन जारी रहेगा उन्होंने बोला कि इजराइली रक्षा मंत्री के कार्यालय से जारी बयान में साफ बोला गया है कि अभियान तब तक जारी रहेगा जब तक महत्वपूर्ण समझा जाएगा, इससे आप समझ सकते हैं कि संघर्षविराम की कोई आसार नहीं है

 

Related Articles

Back to top button