कोरोना वायरस की भूमिका न समझना ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो पर पड़ा भारी

कोरोना वायरस की भूमिका न समझना ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो पर पड़ा भारी

कोरोना वायरस (Corona Virus) को कमतर आंकने वालों को इसकी मूल्य चुकानी पड़ रही है। ब्राजील को दूसरा सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित देश बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो (Jair Bolsonaro) में कोरोना के लक्षण दिखाई दिए हैं। उनका दूसरी बार टेस्ट करवाया गया है, जिसकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है।    

एक लोकल टीवी चैनल के मुताबिक, राष्ट्रपति ने अपनी सभी बैठकें रद्द कर दी हैं व वह hydroxychloroquine ले रहे हैं। संभव है, अब शायद जेयर बोल्सोनारो को कोरोना के खतरे का अंदाजा हो व वे इसकी रोकथाम के लिए कड़े तरीकों का विरोध करने की अपनी आदत छोड़ें। बोल्सोनारो आरंभ से ही कोरोना को कमतर आंकते आए हैं। उन्होंने इसे छोटी बुखार करार दिया था व इसकी रोकथाम के लिए लागू किए गए नियमों का कभी पालन नहीं किया। अब नतीजा सबके सामने है।  

बोल्सोनारो की तरह पाक के पीएम इमरान खान (Imran Khan) ने भी कोरोना के जोखिम को हल्के में लिया व पूरा देश उनकी इस नादानी की खामियाजा भुगत रहा है। आम जनता के साथ-साथ पाक में हाई-प्रोफाइल कोरोना वायरस रोगियों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi ) के बाद अब स्वास्थ्य मंत्री चिकित्सक जफर मिर्जा (Dr Zafar Mirza) की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। मिर्जा पर पाक में महामारी से निपटने की जिम्मेदारी है, ऐसे में उनका संक्रमित होना दर्शाता है कि पाक का पूरा सिस्टम ही बीमार चल रहा है।   

कोरोना के लक्षण दिखाई देने के बाद से चिकित्सक मिर्जा ने खुद को होम क्वारंटाइन कर लिया है। मिर्जा पहले 20 मिलियन मास्क की तस्करी के आरोप में आपराधिक जाँच का सामना कर रहे थे, लेकिन बाद में उन्हें राहत मिल गई। विदेशमंत्री शाह महमूद कुरैशी व चिकित्सक मिर्जा के साथ ही मंत्री सैयद अमीनुल हक (Syed Aminul Haq) व रेलमंत्री शेख रशीद अहमद (Sheikh Rasheed Ahmed) भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। अहमद की रिपोर्ट 8 जून को पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद उन्हें रावलपिंडी के एक सैन्य अस्पताल में भर्ती किया गया था।  

इसी तरह, पाक तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के नेता व सिंध प्रांत के गवर्नर इमरान इस्माइल व पूर्व पीएम शाहिद खान अब्बासी (Shahid Khaqan Abbasi) की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई थी। हालांकि, हाई-प्रोफाइल कोरोना मरीजों की यह लिस्ट यहीं समाप्त नहीं होती। पाक पीपुल्स पार्टी के नेता सईद गनी, बलूचिस्तान के पूर्व गवर्नर सैयद फ़ज़ल आगा, पंजाब प्रांत के नेता शाहीन रज़ा, सिंध प्रांत के मंत्री अधीन मुर्तज़ा बलूच भी पिछले छह महीनों में वायरस की चपेट में आ चुके हैं।  

यह बात अलग है कि पीएम इमरान खान ने कभी इसे गंभीरता से नहीं लिया। कोरोना के बढ़ते मामलों के बावजूद इमरान ने पाक की आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए कठोर लॉकडाउन से परहेज किया। उन्होंने धार्मिक स्थलों को भी बंद नहीं किया। वह लगातार अपनी स्थिति का रोना रोते रहे व कोरोना देश में बेकाबू होता गया, आज नतीजा सबसे सामने है।