अंतर्राष्ट्रीय

लोकेश मुनि ने कहा कि Global problems के समाधान में धार्मिक नेता दे सकते हैं अहम योगदान

आचार्य मुनि ने 14 अगस्त से 18 अगस्त तक शिकागो में होने वाली 2023 विश्व धर्म संसद से पहले ‘पीटीआई-भाषा’ से इंटरव्यू में कहा, ‘‘मैं शिकागो में यही संदेश लेकर पहुंचा हूं’’

वाशिंगटन जैन समुदाय के प्रतिष्ठित धार्मिक नेता आचार्य लोकेश मुनि ने बोला है कि दुनिया के प्रमुख धर्मों एवं आस्थाओं के नेता इन्सानियत के सामने उपस्थित यूक्रेन युद्ध जैसी बड़ी चुनौतियों का निवारण करने और स्थायी शांति स्थापित करने में अहम किरदार निभा सकते हैं
आचार्य मुनि ने 14 अगस्त से 18 अगस्त तक शिकागो में होने वाली 2023 विश्व धर्म संसद से पहले ‘पीटीआई-भाषा’ से इंटरव्यू में कहा, ‘‘मैं शिकागो में यही संदेश लेकर पहुंचा हूं’’


इस पांच दिवसीय कार्यक्रम में 80 राष्ट्रों से करीब 10,000 प्रतिनिधि शामिल होंगे लोकेश मुनि विश्व के उन कुछ धार्मिक नेताओं में शामिल हैं, जिन्हें पूर्ण सत्र में वक्ता के तौर पर आमंत्रित किया गया है

आचार्य मुनि ने कहा, ‘‘अब समय आ गया है कि विश्व के नेता शांतिपूर्ण एवं समृद्ध समाज एवं दुनिया के लिए एक रूपरेखा तैयार करें’’
उन्होंने बोला कि विश्व के प्रमुख धर्मों और आस्थाओं के नेता इन्सानियत के सामने मौजूदा प्रमुख चुनौतियों को हल करने और ऐसे समय में स्थायी शांति लाने में जरूरी किरदार निभा सकते हैं, तब यूक्रेन में युद्ध जारी है
जैन मुनि ने बोला कि इन्सानियत जिन समस्याओं से जूझ रही है, उनमें से किसी का भी निवारण युद्ध, अत्याचार एवं आतंक नहीं है तथा सभी मतभेदों एवं विवादों को वार्ता के जरिए सुलझाया जा सकता है
उन्होंने युक्रेन में जारी युद्ध के संदर्भ में बोला कि सालों के युद्ध के बाद भी जंग सिर्फ़ वार्ता के जरिए ही खत्म होती है, तो ‘‘इंतजार क्यों करना? वार्ता और कूटनीति को अभी प्रारम्भ किया जाए’’

लोकेश मुनि ने कहा, ‘‘युद्ध खत्म करने के लिए वार्ता अहम है मेरी अगले हफ्ते विश्व धर्म संसद में इस मुद्दे को उठाने की योजना है’’
वह पिछले कुछ महीनों से अमेरिका के विभिन्न स्थानों की यात्रा पर हैं
उन्होंने बोला कि बंदूक अत्याचार की परेशानी के निवारण के लिए नैतिक और मूल्य-आधारित शिक्षा अहम है तथा इसे प्राथमिक विद्यालय के स्तर से प्रारम्भ किया जाना चाहिए
लोकेश मुनि ने बोला कि बंदूकों पर प्रतिबंध बंदूक अत्याचार का दीर्घकालीन निवारण नहीं है उन्होंने बोला कि उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन को हालिया संवाद में यही संदेश दिया था

Related Articles

Back to top button