इंटरनेशनल अपराधी न्यायालय ICC पहुंचा चीन का मुद्दा

इंटरनेशनल अपराधी न्यायालय ICC पहुंचा चीन का मुद्दा

चीन में मुस्लिमों विशेषकर उइगर समुदाय के विरूद्ध जारी मानवाधिकार उल्लंघन व शोषण का मुद्दा अब इंटरनेशनल अपराधी न्यायालय (ICC) पहुंच चुका है। 

उइगर समुदाय से संबंधित संस्था ईस्ट टर्किश सरकार व ईस्ट तुर्किस्तान नेशनल अवेकनिंग मूवमेंट ने चाइना के विरूद्ध न्यायालय में उइगर समुदाय के नरसंहार, मानवाधिकार उल्लंघन व उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया है।

उइगर समुदाय की निर्वासित सरकार ने न्यायालय में बोला है कि वह चाइना से उइगर नरसंहार व अपराध अगेंस्ट ह्यूमैनिटी के मामलों में प्रश्न करे। ये पहला केस है जब चाइना से अंतर्राष्ट्रीय कानूनों के भीतर उइगर समुदाय पर किए जा रहे अत्याचार से संबंधित पूछताछ की जा सकती है। लंदन के वकीलों के एक समूह ने चाइना में उइगर समुदाय पर हो रहे अत्याचार व हजारों उइगरों को कानून का उल्लंघन कर कंबोडिया व तजिकिस्तान डिपोर्ट किये जाने के बारे में मुद्दा दर्ज कराया है। इंटरनेशनल अपराधी न्यायालय ने भी मुद्दे में रूचि जताई है व चाइना पहली दफा जाँच के घेरे में आ सकता है। इस मुद्दे में जिनपिंग समेत कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार से संबंधित 80 लोगों पर उइगर समुदाय के नरसंहार का आरोप लगाया गया है।

आपको बता दें कि इंटरनेशनल अपराधी न्यायालय में नरसंहार, युद्ध क्राइम व अन्य मानवाधिकार हनन के अंतर्राष्ट्रीय मुकदमों को सुना जाता है। हालांकि इस बात को लेकर अब भी शक है कि क्या चाइना इस न्यायालय के अधिकार क्षेत्र को मानेगा व जाँच के लिए तैयार होगा।