जब हजारों फीट की ऊंचाई से भयानक रफ्तार से गिरा प्लेन, सभी यात्रियों की हुई थी मौत

जब हजारों फीट की ऊंचाई से भयानक रफ्तार से गिरा प्लेन, सभी यात्रियों की हुई थी मौत

एमडी-82 विमान से जुड़ी सबसे खतरनाक विमान हादसा थी

  • 300 फीट प्रति सेकेंड की भयानक रफ्तार से जमीन पर गिरा था
  • वेनेज़ुएला के इतिहास में सबसे भयावह विमान हादसा थी

 इतिहास में भयानक विमान दुर्घटनाएं हुए हैं. कभी आतंकवादी षड्यंत्र तो कभी विमानों में गड़बड़ी हर बार सैकड़ों यात्रियों को मूल्य चुकानी पड़ी है. ऐसा ही एक वाकया 2005 में हुआ था, जिसे लेकर आज भी लोगों की रूह कांप जाती है. 18 वर्ष पहले आज ही के दिन एक विमान हादसे का शिकार हुआ था जिसमें सवार सभी लोगों की मृत्यु हो गई थी. यह दुर्घटना कितना भयानक था, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह विमान 300 फीट प्रति सेकेंड की भयानक रफ्तार से जमीन पर गिरा था. मैकडॉनेल डगलस एमडी -82 में सवार 160 यात्रियों और चालक दल के बचने की कोई आसार नहीं थी क्योंकि विमान सिर्फ तीन मिनट में 33,000 फीट की ऊंचाई से जमीन पर गिर गया था. साल 2005 की आरंभ 16 अगस्त को फ्लाइट 708 के दुर्घटनाग्रस्त होने के साथ हुई थी. यह वेनेज़ुएला में माचिक्स के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया. बीती रात विमान पनामा से फ्रांसीसी कैरेबियाई द्वीप मार्टीनिक जा रहा था. हादसा दुखद थी लेकिन इसने उस साल तीन गंभीर रिकॉर्ड बनाए. यह उस साल की सबसे खतरनाक विमान हादसा थी. वेनेज़ुएला के इतिहास में सबसे भयावह और एमडी-82 विमान से जुड़ी सबसे खतरनाक विमान हादसा थी.

विमान क्षमता से अधिक ऊंचाई पर पहुंच गया

माना जा रहा था कि पायलटों ने अपने वजन के कारण विमान को बहुत ऊंचा उड़ा दिया था. जांचकर्ताओं का बोलना है कि इसे 31,900 फीट से ऊपर नहीं उड़ाया जाना चाहिए था लेकिन वे वास्तव में इसे 33,000 फीट तक ले गया था. प्लेन बहुत ऊंचाई पर होने के कारण इसकी गति कम होती जा रही थी और समय पर आवश्यक कदम न उठाने के कारण विमान तेजी से नीचे आया. क्षेत्रीय समयानुसार 2:31 बजे जमीन पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया.

सुरक्षा के लिहाज से कंपनी का रिकॉर्ड खराब रहा
विमान में सवार अधिकतर लोग फ्रांसीसी नागरिक थे जबकि एक इतालवी और चालक दल के आठ सदस्य कोलंबियाई थे. यह पाया गया कि एयरलाइन वेस्ट कैरेबियन एयरवेज हादसा से पहले समस्याओं से पीड़ित थी और सुरक्षा के मुद्दे में उसका रिकॉर्ड बहुत खराब था. कुछ दिन पहले मई में 19 यात्रियों को लेकर तारा एयर का एक विमान दो दिन पहले नेपाल में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इस दौरान विमान में सवार सभी 19 यात्रियों और चालक दल के दो सदस्यों की मृत्यु हो गई. प्रारंभिक जांच के मुताबिक हादसे का कारण खराब मौसम बताया जा रहा है.