इस बड़े बम धमाके के कारण मंत्रिमंडल ने लिया अपने पद से हटने का निर्णय 

इस बड़े बम धमाके के कारण मंत्रिमंडल ने लिया अपने पद से हटने का निर्णय 

लेबनान (Lebanon) की राजधानी बेरूत (Beirut) में बीते दिनों हुए बड़े बम धमाके को लेकर मंत्रिमंडल ने त्याग पत्र दे दिया है. इस घटना को लेकर अपनी जिम्मेदारी लेेते हुए मंत्रियों ने अपने पद से हटने का निर्णय लिया है. मंत्रिमंडल की मीटिंग के बाद स्वास्थ्य मंत्री हमाद हसन (Hamad Hasan) ने सोमवार को मीडिया को इस बारे में जानकारी दी है.

धमाके के विरोध में बेरूत में बीते दो दिनों प्रदर्शनकारियों व सुरक्षा बलों के बीच झड़प हुई है. हमाद के अनुसार, पूरी सरकार ने त्याग पत्र दे दिया है. उन्होंने बोला कि लेबनान के पीएम हसन दियाब (Hassan Diab) ने राष्ट्रपति भवन में सभी मंत्रियों के इस्तीफे को सौंपा है.

गौरतलब है कि बीते दिनों चार अगस्त को हुए धमाके में 160 लोगों की मृत्यु हो चुकी है. इस घटना में लगभग छह हजार लोग घायल हुए. इसके साथ देश का मुख्य बंदरगाह भी नष्ट हो गया. राजधानी के बड़े हिस्से बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा है. इस मुद्दे में बताया जा रहा है कि एक भंडार में रखे गए 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट में आग लगने के बाद ये विस्फोट हुआ.

2013 में बंदरगाह पर रुके एक जहाज से विस्फोटक इस भंडार घर में पहुंचा था. विस्फोट से 10 अरब डॉलर से लेकर 15 अरब डॉलर का नुकसान होने की संभावना है. धमाके के बाद करीब तीन लाख लोग बेघर हो गए.

बेरूत में हुए इस भयानक धमाके में 160 वर्ष पुराना एक ऐतिहासिक महल भी तबाह हो गया. पीएम दियाब जल्द देश को संबोधित कर सकते हैं. नयी सरकार के गठन होने तक मंत्रिमंडल कार्यवाहक किरदार में कार्य करता रहेगा. इस बीच, देश के एक न्यायाधीश ने सोमवार को सुरक्षा एजेंसियों के प्रमुखों से वार्ता प्रारम्भ की.

न्यायाधीश गस्सान एल खोरी ने सुरक्षा प्रमुख मेजर जनरल टोनी सलीबा कई अहम जानकारियों को लेने का कोशिश किया. इस विषय में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई. सरकारी अधिकारियों के अनुसार धमाके में लगभग 20 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है. इनमें लेबनान के सीमा-शुल्क विभाग का प्रमुख भी शामिल हैं. इस दौरान दो पूर्व कैबिनेट मंत्रियों से पूछताछ की गई है.