कोरोना वायरस पालतू जानवरों से नहीं फैलता है: WHO, जाने खबर

कोरोना वायरस पालतू जानवरों से नहीं फैलता है: WHO, जाने खबर

 कोरोना वायरस महामारी ( Coronavirus epidemic ) से पूरी संसार जूझ रही है व अब तक इस वायरस ने 5 लाख से अधिक लोगों की जान ले ली है. वहीं, एक करोड़ से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. अभी भी लगातार यह वायरस तेजी के साथ फैल रहा है व लोगों को अपना शिकार बनाता जा रहा है.

इस बीच सोशल मीडिया ( Social Media ) के जरिए लोगों तक कई तरह की भ्रांतियां व ऐसी खबरें भी पहुंच रही है कि पालतू जानवरों की वजह से कोरोना वायरस फैल रहा है. हालांकि, अब दुनिया स्वास्थ्य संगठन ( WHO ) ने साफ-साफ बोला है कि पालतू जानवर ( Pet Animal ) से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बेहद कम है.

बता दें कि कोरोना वायरस के फैलने के साथ ही इससे जुड़े मिथक के फैलने से लोगों में भ्रम की स्थित देखने को मिल रहा है. लोग बहुत ज्यादा डरे हुए हैं. कभी ये बोला जा रहा है कि ये खतरनाक वायरस आपके जानवरों को भी संक्रमित कर सकता है, तो कभी ये बोला जा रहा है जानवरों के द्वारा ये वायरस आपके शरीर में प्रवेश ( Corona virus spread among humans from animals ) कर सकता है.
कोरोना वायरस पालतू जानवरों से नहीं फैलता है: WHO

पालतू जानवरों से कोरोना के फैलने को लेकर दुनिया स्वास्थ्य संगठन की चीफ वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ( World Health Organization Chief Scientist Soumya Swaminathan ) ने जिनेवा में बोला कि इस वायरस से कई जानवर संक्रमित हुए हैं, लेकिन पालतू जानवर से इसका फैलाना कठिन है.

उन्होंने आगे बोला कि किसी इंसान में पालतू जानवरों से कोरोना वायरस फैलने की आसार बहुत ज्यादा कम है. हालांकि पहले ऐसा बोला जा रहा था कि जानवर से ही इंसानों में कोरोना वायरस फैला है. इसके लिए कभी समुद्री जीवों को कारण बताया गया तो कभी चमगादड़ व पैंगोलिन ( Bats and pangolins ) का नाम लिया गया.

बता दें कि, अभी तक इस बात को प्रमाणित नहीं किया जा सका है कि आखिर कोरोना वायरस का मूल स्रोत किया है. कोरोना वायरस की उत्पत्ति ( Origin of coronavirus ) का मूल कारण किया है. इसको लेकर लगातार शोध किया जा रहा है. मालूम हो कि कोरोना वायरस से संक्रमित आदमी सबसे पहले चाइना के वुहान शहर ( Wuhan City of China ) में पाया गया था. इसके बाद देखते ही देखते सारे दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया.

ऐसा भी माना जा रहा है कि यह वायरस वुहान शहर के एक लैब में बनाया गया है, लेकिन इसको लेकर भी अभी तक कोई प्रमाण सामने नहीं आया है. बहरहाल, इस वायरस के खतरे से निपटने के लिए वैक्सीन बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है व उम्मीद है कि इस वर्ष के अंत तक कोरोना वैक्सीन ( Corona vaccine ) बन जाएगा.