आ रही ये बड़ी खबर, चीन अब बदल रहा कोरोना वायरस की थ्योरी

आ रही ये बड़ी खबर, चीन अब बदल रहा कोरोना वायरस की थ्योरी

चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस के नए मामले आने के बाद एक साल का समय बीत चुका है। पूरी दुनिया जान रही है कि ये वायरस वुहान में ही उत्पन्न हुआ था लेकिन अब चीन इस थ्योरी को पलटने की कोशिश कर रहा है। चीन का सरकारी मीडिया अब लगातार ये खबरें दे रहा है कि किस तरह विदेशों से आने वाले खाद्य पदार्थों में कोरोना वायरस पाया जा रहा है। चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी द्वारा नियंत्रित ‘पीपुल्स डेली’ अखबार ने फेसबुक पर पिछले हफ्ते एक पोस्ट डाली जिसमें लिखा था कि ‘सभी उपलब्ध सबूत बताते हैं कि कोरोना वायरस चीन के वुहान से उत्पन्न नहीं हुआ था।

वायरस कहाँ से निकला
इस पोस्ट में चीन के सेंटर फॉर डिजीज कण्ट्रोल के मुख्य महामारी विशेषज्ञ झेंग गुआंग के हवाले से कहा गया है कि वुहान में कोरोना वायरस का सबसे पहले जरूर पता अलगा लेकिन ये वायरस वहां पैदा नहीं हुआ था।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन का कहना है कि चीन ने सबसे पहले कोरोना के केस रिपोर्ट किये लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि वायरस चीन में उत्पन्न हुआ था। झाओ ने कहा कि वायरस कहाँ से निकला ये पता लगाना एक लंबा प्रोसेस है और इसमें कई देश और क्षेत्र शामिल हो सकते हैं।

चीनी वैज्ञानिकों ने रिसर्च पेपर तक दे दिया
चेन के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति के बारे में बाकायदा एक रिसर्च पेपर विख्यात विज्ञान पत्रिका ‘लांसेट’ में प्रकाशन के लिए सबमिट किया है।अभी ये पेपर प्रकाशित तो नहीं हुआ है लेकिन इसमें दावा किया गया है कि ‘वुहान वो जगह नहीं है जहाँ सबसे पहले इनसान से इनसान में संक्रमण हुआ। इस पेपर में इशारा किया गया है कि कोरोना वायरस बीमारी का पहला केस भारतीय उपमहाद्वीप में आया हो सकता है।

पश्चिमी देशों को भरोसा नहीं
कोरोना वायरस चीन से बाहर कहीं उत्पन्न हुआ था इस थ्योरी पर पश्चिमी देशों के वैज्ञानिकों को ज़रा भी भरोसा नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के हेल्थ इमरजेंसी प्रोग्राम के निदेशक माइकेल रयान ने कहा है कि कोरोना वायरस चीन से बहार कहीं उत्पन्न हुआ ये कहना बहुत बड़ी अटकलबाजी है। सार्वजानिक स्वास्थ्य के नजरिये से हमेशा ये देखा जाता है कि इनसान में संक्रमण का पहला मामला कहाँ आया।

चीन पहले ये भी कह चुका है कि कोरोना वायरस इटली से शुरू हुआ। इस दावे पर लन्दन के एक वायरस विज्ञानी प्रोफ़ेसर जोनाथन स्टोए का कहना है कि इटली पर दोषारोपण करना सही नहीं है क्योंकि वहां के आंकड़ों से पता चलता है कि लोगों में कोविड-19 के लिए जिम्मेदार विषाणु नहीं थे।

चीन का दावा रहा है कि इटली के एक अस्पताल की कैंसर यूनिट से मिले नमूनों में सितम्बर 2019 में कोरोना वायरस मौजूद था। प्रोफ़ेसर स्टोए का कहना है कि ये तय है कि कोरोना महामारी का पहला केस चीन में मिला था और इस वजह से यही मुमकिन है कि वायरस चीन में उत्पन्न हुआ था।

फ्रोजेन फ़ूड में कोरोना वायरस
चीनी मीडिया इधर लगातार कह रहा है कि विदेशों से आये फ्रोजेन फ़ूड में कोरोना वायरस मिला है। चीन ने भारत से आयातित खाद्य पदार्थों को भी संक्रमित बताया है। ये बात सही है कि तमाम फ्रोजेन फ़ूड पर कोरोना वायरस मिले हैं लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि फ्रोजेन फ़ूड पर वायरस की मौजूदगी से बीमारी फैलने का ख़तरा बहुत कम है।

जॉन होपकिंस यूनिवर्सिटी के एंड्रू पेकोस्ज़ का कहना है कि फ्रोजेन फ़ूड के पॉजिटिव टेस्ट का ये मतलब नहीं है कि वहां कोई संक्रमण फैलाने वाला वायरस मौजूद है बल्कि ये सिर्फ ये संकेत है कि वायरस का कोई अंश उस सतह पर मौजूद रहा होगा। खाने के पैकेज पर कोरोना वायरस से संक्रमण का बहुत बड़ा जोखिम होता है इसका कोई पक्का डेटा नहीं मिला है।

अपनी इज्जत बचाने की कवायद
दुनिया भर में कोरोना संक्रमण फैला हुआ है और ऐसे में चीन देश-विदेश में अपनी इज्जत बचने की भरपूर कोशिशों में जुटा हुआ है। चीन का दावा है कि उसने अपने यहाँ कोरोना महामारी को कंट्रोल कर लिया है और अब वो अपनी छवि सुधरने की हर जुगत कर रहा है इसी क्रम में चीन दुसरे देशों को मेडिकल सहायता दे रहा है और खुद वैक्सीन डेवलप करने में लगा है।

एक अमेरिकी थिंक टैंक ‘जर्मन मार्शल फण्ड’ के वरिष्ठ सदस्य एंड्रू स्माल का कहना है कि चीन इस झटके से उबर नहीं पा रहा है कि पूरी दुनिया उसे महामारी फैलने के ‘मूल पाप’ के लिए जिम्मेदार मान रही है।

ऐसे में चीन चाहे जो कर ले उसके खिलाफ गुस्सा और आक्रोश कम नहीं होने वाला। कोरोना वायरस कहाँ से निकला इस बारे में चीन की शीर्ष लीडरशिप के मन में कोई संदेह नहीं होगा और अब यही लीडरशिप झूठे प्रचार का सहारा ले रही है।

स्वतंत्र जांच में रोड़े
चीन भले ही कोरोना वायरस की उत्पत्ति के बारे में संदेह के बीज बो रहा है लेकिन अगर उसमें ज़रा भी सच्चाई होती तो वो स्वतंत्र जांच को प्रोमोट करता। असलियत तो ये है कि चीन कोरोना वायरस से सम्बंधित किसी भी स्वतंत्र जांच के प्रयासों में रोड़े ही अटकाता आया है।

डब्लूएचओ के जांचकर्ता कुछ महीने पहले जांच करने वुहान गए लेकिन उनको वहां की मीट बाजार का दौरा करने की अनुमति नहीं दी गयी। जबकि वुहान की उसी मीट मार्किट से कोरोना वायरस की उत्पति जुड़ी हुई है।

अब फिर डब्लूएचओ की एक नई टीम चीन जाने वाली है जो चीन स्थित एक दल की शुरुआती जांच को आगे बढ़ाएगी। टीम चीन कब जायेगी इसकी कोई तारिख तय नहीं की गयी है। डब्लूएचओ का बस इतना कहना है कि उसकी टीम चीन जायेगी।


सबसे महंगी Biryani: नाम है इसका रॉयल गोल्ड

सबसे महंगी Biryani: नाम है इसका रॉयल गोल्ड

अगर आप खाने के शौकीन है खासकर बिरयानी के तो  नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है। अभी तक तो शायद आप हैदराबादी बिरयानी के ही क्रेजी होंगे। क्योंकि बिरयानी के दिवानों के लिए हैदराबादी बिरयानी फेमस है। वैसे इस बिरयानी की कीमत इतनी ही है कि आपकी जेब भी उसे एलाउ कर देगी।

जब बात बिरयानी की हो तो जेब तो ढ़ीली होती है, लेकिन हम आज जिस बिरयानी की बात कर रहे हैं वो दुनिया की सबसे महंगी बिरयानी है। जो दुबई के एक रेस्टोरेंट में बनाई जाती है। ये दुनिया की सबसे महंगी बिरयानी है।

‘रॉयल गोल्ड बिरयानी’
वैसे भी कहा जाता है कि दुबई में केवल इंसान ही रईस नहीं हैं। यहां का माहौल और खाना भी आम आदमी की पहुंच से बाहर है। इसका एक उदाहरण यहां कि ‘रॉयल गोल्ड बिरयानी’ है। इस बिरयानी को दुबई की सबसे महंगी बिरयानी कहा जाता है। बिरयानी पहले ही दुनिया में चर्चित डिश है। ऐसे में इस नई थाली ने इसे फिर  सुर्खियों में ला दिया। दुबई के इस रेस्टोरेंट में ये स्वाद सोने की थाली में मिलेगा।

खासियत
खास बात ये कि इस रेस्टोरेंट में इसे खाने के लिए बहुत भीड़ लगी रहती है ।23 कैरेट गोल्ड के साथ केसर युक्त इस बिरयानी के एक प्लेट की कीमत 20 हजार रुपये है। बॉम्बे बॉरो (Bombay Borough) एक लक्जरी रेस्तरां है, जहां दुनिया की सबसे महंगी बिरयानी परोसी जाती है।

इस बिरयानी को छह लोग शेयर कर सकते है
सोशल मीडिया पर इसकी तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है और खाने के शौकीन लोगों के बीच इस गोल्ड रॉयल बिरयानी को लेकर खासी चर्चाएं हो रही है। बिरयानी को छह लोग शेयर कर सकते है, इसे 23 कैरेट सोने के साथ गार्निश किया जाता है, रेस्त्रां में बिरयानी के अलावा कस्टमर्स को कई तरह के मुगलई फूड आइटम्स भी परोसे जाते हैं।

45 मिनट के भीतर होगी सर्व
इस महंगी बिरयानी में कश्मीरी मटन कबाब, पुरानी दिल्ली मटन चॉप्स, राजपूत चिकन के कबाब, मुगलई कोफ्ते और मलाई चिकन जैसी चीजें मिलती है, और यह एक बड़े सुनहरे थाली में परोसी जाती है, इसमें सॉस, करी और रायता भी शामिल होता हैं। इस बिरयानी को ऑर्डर करने के 45 मिनट के भीतर यह बिरयानी आपको टेबल पर सर्व हो जाएगा।

अकेले खा पाना भी मुश्किल
जो बिरयानी और बाहर खाने के शौकीन है। उन्हें अपने खाने में किसी तरह की कमी पसंद नहीं होती है। ऐसे में इस रेस्त्रां ने ग्राहकों की इस परेशानी की भी बढ़िया व्यवस्था कर रखी है। रेस्त्रां इस बिरयानी के लिए ग्राहकों को अपने पसंद का चावल चुनने का भी ऑप्शन देता है। ऑर्डर से पहले आप किस तरह का चावल चाहते हैं, यह बता सकते हैं। वहीं, एक डिश में 3 किलो चावल होने के कारण अकेले खा पाना भी मुश्किल होता है।


कप्तान विराट कोहली ने ऐसे किया बचाव, धूल उड़ती पिच पर टिक नहीं पाए बल्लेबाज       16 चौके व 2 छक्कों की मदद से बनाए 115 रन, प्रियम गर्ग ने अपनी टीम के लिए लगाया शतक       Road Safety World Series 2021 में इंग्लैंड की टीम की कप्तानी करेगा ये दिग्गज       क्रिकेट करियर में 972 विकेट चटकाने वाले भारतीय गेंदबाज ने की संन्यास की घोषणा       दो विश्व कप जीतने वाले खिलाड़ी यूसुफ पठान ने लिया संन्यास       डीजल-पेट्रोल मूल्य वृद्वि के खिलाफ  कांग्रेस का मशाल जुलूस       ग्रिजली विद्यालय में ऑनलाइन सीसीए के तहत कार्यक्रम आयोजित       डिजिटल डिवाइस के माध्यम से छात्र-छात्राओं कराया जायेगा पठन-पाठन, जिले के 25 हाई स्कूल में स्मार्ट क्लास की स्थापना       Sidharth Shukla से एक यूजर ने कहा, 'शहनाज गिल के साथ फ्रेंडशिप पड़ रही हैं महंगी'       Priya Prakash Varrier Video: शूटिंग के दौरान प्रिया प्रकाश वारियर हुईं हादसे का शिकार       OTT Platform Guidelines: 'सेक्रेड गेम्स 2' से लेकर 'तांडव' तक, इन वेब सीरीज पर मचा बवाल       कैंसर के इलाज करा रहीं राखी सावंत की मां का अस्पताल से इमोशनल वीडियो आया सामने       Lisa Haydon तीसरी बार बनने जा रही हैं मां, बेबी बम्प के साथ किया डांस       सहवाग ने इग्लैंड के बल्लेबाजों को किया ट्रोल, राहुल गांधी का ये वीडियो किया शेयर       सपा पर बरसे CM योगी, यहां गर्मी दिखाने की जरूरत नहीं       सावधान सोशल मीडिया पर, फेसबुक-ट्विटर हो या नेटफ्लिक्स-अमेजन       अब महँगा होगा दूध, सरकार नहीं किसानों ने किया बड़ा ऐलान!       धरती पर दिखा स्वर्ग, ऐसा नजारा कभी नहीं देखा होगा       सबसे महंगी Biryani: नाम है इसका रॉयल गोल्ड       दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का नाम रखा गया नरेंद्र मोदी स्टेडियम