क्रिस्टोफर रे ने साफ शब्दों में बताया चाइना अमेरिका की 'खुली व्यवस्था' का उठाया लाभ 

क्रिस्टोफर रे ने साफ शब्दों में बताया चाइना अमेरिका की 'खुली व्यवस्था' का उठाया लाभ 

अमेरिका का चाइना सरकार पर हमला लगातार जारी है। इस बार मोर्चा FBI यानी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन के डायरेक्टर क्रिस्टोफर रे ने खोला है। क्रिस्टोफर रे ने साफ शब्दों में बोला है कि चाइना अमेरिका की 'खुली व्यवस्था' का लाभ उठा रहा है

जबकि अपनी 'बंद व्यवस्था' को बचा रहा है। अमेरिका के हडसन इंस्टीट्यूट में एक प्रोग्राम के दौरान क्रिस्टोफर रे ने बोला कि चाइना के नेता यकीन करते हैं कि वो पीढ़ी दर पीढ़ी एक जंग में शामिल हैं, जिसका मकसद किसी भी तरह चाइना को संसार का इकलौता सुपरपावर बनाना है।

एक दिन पहले ही अमेरिका के विदेश मंत्री ने चाइना के लिए दूसरी नीति अपनाने की बात कही थी। वहीं FBI डायरेक्टर ने भी कड़े शब्दों मे बोला कि अमेरिका की सूचना व बौद्धिक संपत्ति व आर्थिक संपन्नता को चाइना के इंटेलिजेंस व जासूसी से खतरा है। क्रिस्टोफर रे ने आगे बढ़कर साफ किया  कि चाइना से अमेरिका की आर्थिक सुरक्षा व राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है।   

FBI निदेशक ने लगे हाथ आरोप लगाया कि चाइना अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए कई ढंग प्रयोग कर रहा है, व उसकी प्रयास है कि अमेरिका में शक्तिशाली लोग चाइना की वकालत करें। क्रिस्टोफर रे के मुताबिक  इसके लिए चाइना आर्थिक जासूसी करना, खुफिया जानकारी जुटाना, विश्वविद्यालयों में सेंसर लागू करना व दुष्ट विदेशी असर का प्रयोग कर रहा है। चाइना की मंशा पर सवाल उठाते हुए क्रिस्टोफर रे ने बोला कि  दबाव बनाकर अमेरिकी नीतियों में परिवर्तन की प्रयास की जाती है।    

क्रिस्टोफर रे ने आर्थिक जासूसी पर चिन्ता जताई। उनके मुताबिक इसका खामियाजा अमेरिका के लोगों को भुगतना पड़ा है। FBI डायरेक्टर दावा किया कि चाइना की तरफ से हो रही चोरी मानव इतिहास में धन का सबसे बड़ा ट्रान्सफर है। उन्होंने बोला कि ये वैसा ही है जैसे चाइना ने किसी अमेरिकी का पर्सनल डाटा चुरा लिया हो