चीन की दीवार लांघने का मिला खामियाजा, 8 महीने में आधी हो गई हैसियत

चीन की दीवार लांघने का मिला खामियाजा, 8 महीने में आधी हो गई हैसियत

दुनिया के 25वें सबसे अमीर शख्स रहे जैक मा (Jack Ma) का अंपायर धीरे-धीरे ढह रहा है। चीनी सरकार की बेरुखी इतनी बढ़ गई है कि एक साल पहले जिस अंपायर का Valuation 1326 अरब डॉलर था। वह आज घटकर आधा हो गया है। खासकर Ant Group का कारोबार पूरी तरह चौपट हो गया है। पहले उसका IPO कैंसिल हुआ, फिर कंपनी के कारोबार का बिकना। कुलमिलाकर Jack Ma के लिए राह आसान नहीं है। एक-एक कर उनका Group पर से नियंत्रण खत्‍म हो रहा है। अपनी हिस्‍सेदारी बेचनी पड़ रही है।

क्‍या हुआ कारोबार का

Alibaba का Valuation अक्‍टूबर 2020 में 857 अरब डॉलर था जो अब घटकर 588 अरब डॉलर पर आ गया है। वहीं Ant group का अगर बीते साल IPO आता तो यह दुनिया का सबसे बड़ा ऑफर हो सकता था। लेकिन ऐन मौके पर यह कैंसिल हो गया और उसके साथ ही Jack Ma की गर्दिश के दिन चालू हो गए। IPO के साथ Ant group का Valuation 470 अरब डॉलर का होता। लेकिन अब group महज 108 अरब डॉलर का रह गया है।


कहां हुई भूल

Jack Ma से बीते साल बड़ी भूल हुई जब उन्‍होंने चीनी राष्‍ट्रपति की आलोचना की थी। Jack Ma ने चीनी सरकार से अपील की थी कि व्यवस्था में ऐसा बदलाव किया जाए जो व्यवसाय में नई चीजें शुरू करने के प्रयास को दबाने की कोशिश न करे। उन्होंने वैश्विक बैंकिंग नियमों को 'बुजुर्गों का क्लब' करार दिया था। जैक मा का ये भाषण चीन की कम्युनिस्ट पार्टी को पसंद नहीं आया था। इसके बाद से उनकी कंपनियों को निशाना बनाया जाने लगा।


साल भर में बदल गए दिन

इससे हुआ यह कि एक साल पहले Jack Ma चीन के सबसे अमीर आदमी थे। उन्‍होंने चीन की सबसे बड़ी Tech company Alibaba और दुनिया की सबसे बड़ी Fintech Company Ant Group को बनाया था। लेकिन अब सब बदल रहा है।

IPO का कैंसिल होना

Ant Group के IPO का cancel होना Jack Ma के नुकसान की सबसे बड़ी वजह बना है। न वह चीनी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते और ही ऑफर कैंसिल होता। लेकिन होना कुछ और था। Jack Ma अगर Ant Group का IPO लाते तो उसका Valuation 34.5 अरब डॉलर का होता। 2014 में जब उन्‍होंने Alibaba का ऑफर लॉन्‍च किया था तो वह 25 अरब डॉलर का था।

मीडिया सेक्‍टर में एंट्री बनी वजह

मार्च में चीन सरकार ने उनके समूह अलीबाबा को अपनी मीडिया परिसंपत्तियों को बेचने का आदेश दिया। द वॉल स्ट्रीट जर्नल (डब्ल्यूएसजे) ने इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का हवाला देते हुए बताया था कि बीजिंग देश में जनता के बीच दिग्गज प्रौद्योगिकी कंपनी के प्रभाव को लेकर चिंतित हैं।

2020 में आए मीडिया सेक्‍टर में


अलीबाबा ने बीते साल ही साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट का अधिग्रहण करते हुए मीडिया क्षेत्र में अपने कदम आगे बढ़ाए थे। यह एक ऐसा समाचार पत्र है, जिसकी शुरुआत 118 वर्ष पहले हांगकांग में हुई थी। कंपनी के पास चीन स्थित मीडिया कंपनियों में भी हिस्सेदारी है। टेक्नोलॉजी न्यूज साइट 36केआर, सरकार के स्वामित्व वाले शंघाई मीडिया ग्रुप, ट्विटर जैसे वीबो प्लेटफॉर्म में हिस्सेदारी के साथ-साथ कई लोकप्रिय चीनी डिजिटल और प्रिंट समाचार संस्थाओं में भी इसकी भागीदारी है।


एजेंसी में हिस्‍सेदार

इसके अलावा अलीबाबा ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ और झेजियांग और सिचुआन प्रांतों में स्थानीय सरकार द्वारा संचालित समाचार पत्रों के समूह के साथ संयुक्त उद्यम या साझेदारी भी स्थापित की है। चीनी नियामक अलीबाबा के मीडिया जगत में विस्तार को लेकर चिंतित है और कंपनी को अपनी मीडिया कंपनियों में भागीदारी पर काफी हद तक अंकुश लगाने के लिए योजना के साथ आने के लिए कहा है।

युवाओं की पहली पसंद

सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों में अलीबाबा की हिस्सेदारी का संयुक्त बाजार मूल्य आठ अरब डॉलर से ज्‍यादा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वीबो कॉर्प में लगभग 3.5 अरब डॉलर की हिस्सेदारी और बिलिबिली इंक में लगभग 2.6 अरब की हिस्सेदारी शामिल है। बिलिबिली इंक एक ऐसा वीडियो प्लेटफॉर्म है जो चीन के युवाओं के बीच खासा लोकप्रिय है।


धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा

धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा

हमारी धरती का 75 परसेंट भाग पानी में डूबा हुआ है. सात महाद्वीपों के साथ चार महासागर जीवन का आधार हैं. हालांकि, नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार महासागर चार नहीं बल्कि पांच हैं. इसके अनुसार अंटार्कटिका के पास दक्षिणी महासागर भी अपने आप में एक अलग महासागर है और उसे आर्कटिक, अटलांटिक, हिंद और प्रशांत महासागर के साथ स्थान मिलनी चाहिए. नैशनल जियोग्राफिक सोसायटी जियोग्राफर अलेक्स टेट के अनुसार वैज्ञानिक तो अंटार्कटिक दक्षिणी महासागर को अलग मानते रहे हैं लेकिन कभी अंतर्राष्ट्रीय सहमति नहीं बन पाई जबकि दुनिया का यह भाग बहुत खास है. (UK Ministry of Defence/REUTERS)

Southern Ocean of Antarctica: अंटार्कटिका के पास पानी का करंट इतना अलग है कि National Geographic ने इसे अलग महासागर मान लिया है.



हमारी धरती का 75 परसेंट भाग पानी में डूबा हुआ है. सात महाद्वीपों के साथ चार महासागर जीवन का आधार हैं. हालांकि, नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार महासागर चार नहीं बल्कि पांच हैं. इसके अनुसार अंटार्कटिका के पास दक्षिणी महासागर भी अपने आप में एक अलग महासागर है और उसे आर्कटिक, अटलांटिक, हिंद और प्रशांत महासागर के साथ स्थान मिलनी चाहिए. नैशनल जियोग्राफिक सोसायटी जियोग्राफर अलेक्स टेट के अनुसार वैज्ञानिक तो अंटार्कटिक दक्षिणी महासागर को अलग मानते रहे हैं लेकिन कभी अंतर्राष्ट्रीय सहमति नहीं बन पाई जबकि दुनिया का यह भाग बहुत खास है. (UK Ministry of Defence/REUTERS)



अब तक कहां छिपा था?

नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार यह महासागर अंटार्कटिका के तट से 60 डिग्री दक्षिण की ओर है और दूसरे राष्ट्रों से किसी महाद्वीप नहीं बल्कि अपने करंट की वजह से अलग होता है. इसके अंदर आने वाले क्षेत्र अमेरिका से दोगुना है. सोसायटी आमतौर पर इंटरनैशनल हाइड्रोग्राफिक ऑर्गनाइजेशन के नामों को मानती है जिसने 1937 की गाइडलाइन्स में दक्षिणी महासागर को अलग माना था लेकिन 1953 में इसे बाहर कर दिया. इसके बावजूद अमेरिका के जियोग्राफिक नेम्स बोर्ड ने 1999 से दक्षिणी महासागर नाम का इस्तेमाल किया है. फरवरी में National Oceanic and Atmospheric Administration ने इसे मान लिया. (फोटो: British Antarctic Survey Reuters)



खतरों से घिरा

यह कदम कई अर्थ में खास है. नैशनल जियोग्राफिक एक्सप्लोरर एनरिक साला ने बताया है कि दक्षिणी महासगर में बहुत अनोखे और गम्भीर जलीय ईकोसिस्टम पाए जाते हैं जहां वेल, पेंग्विन्स और सील्स जैसे जीव रहते हैं. ऐसी हजारों प्रजातियां हैं जो केवल यहीं रहती हैं, और कहीं नहीं पाई जातीं. इस क्षेत्र में मछली पकड़ने की गतिविधियों का बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है. ऐसे में संरक्षण की आवश्यकता के चलते भी इसे अलग से मान्यता देना अहम हो जाता है. इसके अतिरिक्त जलवायु बदलाव का प्रभाव भी पड़ रहा है. पिछले महीने दुनिया का सबसे बड़ा हिमखंड अंटार्कटिका से अलग हो गया. फरवरी में भी एक विशाल हिमखंड टूट गया था. (Reuters)



कब बना था?

एक खास अंटार्कटिक सर्कमपोलर करंट भारी मात्रा में पानी ट्रांसपोर्ट करता है और पूरे विश्व में ऐसे सर्कुलेशन सिस्टम को चलाता है जो धरती पर गर्मी ट्रांसपोर्ट करता है. नैशनल जियोग्राफिक 1915 से मैप तैयार कर रहा है और इसके करंट के आधार पर कार्टोग्राफर्स ने यह निर्णय किया है. वर्ल्ड वाइड फंड के अनुसार यह महासागर सबसे हाल में बना महासागर हुआ. यह 3 करोड़ वर्ष पहले बना था जब अंटार्कटिका और दक्षिण अमेरिका एक-दूसर से अलग हुए थे. टेट का बोलना है कि इस महासागर के बारे में लोगों को अलग से बताया-पढ़ाया नहीं गया तो इसकी जरूरतों, सम्मान और खतरों को समझा नहीं जा सकेगा.


महंगाई को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर भड़की मायावती, बोलीं...       सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर       हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र       युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी       धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा       OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार       पौष्टिक आहार, पढ़ाई और प्यार, बच्चों के लिए अत्यंत अनिवार्य: शालिनी गुप्ता,  बाल श्रम उन्मूलन दिवस पर पारहो में फूड न्यूट्रिशन किट का किया वितरण        Muslim Lawmaker Ilhan Omar ने US और Israel की तुलना तालिबान से कर डाली       दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं       अमेरिका में फेडरल जज बनने वाले पहले मुस्लिम बने जाहिद कुरैशी       70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत       कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?       PM मोदी से मुलाकात कर बहुत खुश हुए सीएम योगी, ट्वीट कर कही ये बड़ी बात       राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...       अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं       रेलवे प्लेटफॉर्म के समीप कार्य कर रहे थे मजदूर, तभी गिरी जोरदार बिजली       प्रियंका गांधी ने कहा कि महंगाई आम जनमानस की तोड़ रही है कमर       रिहाई के बाद के 6 वर्ष तक लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाएगे लालू प्रसाद यादव       बिहार में 24 घंटे में मानसून की दस्तक       CM नीतीश ने इतने महीने में 6 करोड़ लोगों के टीकाकरण दिया टारगेट