ऑस्ट्रेलिया के लोगो ने स्कॉट मॉरिसन पर ग्लोबल वार्मिंग का लगाया आरोप

 ऑस्ट्रेलिया के लोगो ने स्कॉट मॉरिसन पर ग्लोबल वार्मिंग का लगाया आरोप

ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन ने छुट्टी पर जाने के लिए माफी मांगी है,जब देश जंगल की आग संकट से जूझ रहा है. आलोचना बढ़ने पर मॉरिसन को अपनी यात्रा को बीच में छोड़कर आना पड़ा. अब तक तीन राज्यों में लगी आग के कारण एक आदमी शनिवार को मृत पाया गया.

 

700 से अधिक घरों को नष्ट कर दिया

सितंबर के बाद से,ऑस्ट्रेलिया के झाड़ीदार जंगलों में आग लगने के कारण कम से कम नौ लोगों की जान ले ली,700 से अधिक घरों को नष्ट कर दिया व लाखों हेक्टेयर झुलस गए. सिडनी के प्रदर्शनकारियों ने जलवायु बदलाव पर कार्रवाई की मांग की. इससे पहले,उप प्रधान मंत्री माइकल मैककॉर्मैक ने स्वीकार किया कि ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के लिए व अधिक कोशिश किया जाना था, कई ऑस्ट्रेलियाई लोगों ने इस वर्ष की आग की गंभीरता को जलवायु बदलाव से जोड़ा.

पीएम मॉरिसन ने क्या कहा?

ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन ने बोला कि उन्हें लगता है कि लोग यह जानकर परेशान थे कि वे अपने परिवार के साथ छुट्टियां मना रहे हैं. बल्कि उनका परिवार बहुत ज्यादा तनाव में था. अग्निशमन अधिकारियों के साथ वार्ता के बाद, उन्होंने बोला कि वह ऑस्ट्रेलियाई आग के बारे में चिंतित थे. उन्होंने जोर देकर बोला कि इमरजेंसी रिएक्शन "दुनिया में सबसे अच्छी" थी. उन्होंने स्वीकार किया कि मौसम के परिवर्तन को बदलने में जलवायु बदलाव का सहयोग था,लेकिन इस बात से मना किया कि इससे ऑस्ट्रेलिया के वन्यजीव सीधे प्रभावित हुए थे.

ऑस्ट्रेलिया की आग व अधिक तीव्र

ऑस्ट्रेलिया के कई लोगों ने स्कॉट मॉरिसन की सरकार पर ग्लोबल वार्मिंग के लिए निष्क्रियता का आरोप लगाया है, क्योंकि देश भर में एक हीट वेव के रिकॉर्ड टूटने व आग लगने की आलोचना बढ़ रही है. हालांकि जलवायु बदलाव आग लगने का प्रत्यक्ष कारण नहीं है. वैज्ञानिकों ने लंबे समय से चेतावनी दी है कि ऑस्ट्रेलिया की आग व अधिक तीव्र होती जा रही है. अग्निशमन संघ के नेता लेटन ड्रुरी ने बोला था कि ऑस्ट्रेलिया सरकार से नेतृत्व की पूर्ण कमी देख रहा है, व यह एक अपमान है.